Wednesday, February 2, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 6

चाहे बेटे को निज हाथों पड़े फूंकना चूल्हा-चौका
काली मोटी बहू मिले पर ब्लू-चिप वाला मैका
रोज़ हवाला तू कर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
राम न जाते कैसे होता रावणवध का महा अफेयर
केकैई ना राजपाट में अगर भरत का लेती शेयर
करना कहीं अफेयर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
पटना कलकत्ता में चाहे मुंबई दिल्ली में चुन लेना
तीनों लोकों किसी भाव भी पर कोई शेयर तुम लेना
गिरवी रखना जेवर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
बकरे से बोटी पाओगे झटका चाहे करो हलाली
शेयर से रोटी पाओगे फ्रॉड करो या करो दलाली
किसी बड़े का फेवर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...