Thursday, February 24, 2011

रक्कासा सी नाचे दिल्ली 11

ये जयललिता का मधुर-स्वप्न, है माया की मंजिल दिल्ली
ये सुषमा के सपनों का घर, ये ममता का साहिल दिल्ली
ऑफिस ये जया भादुरी का , वैजंतीमाला का दफ्तर
ये जया प्रदा की कर्मभूमि ,ये हेमा की ' धन्नो ' दिल्ली
ये प्रतिभा देवी की प्रतिभा, ये मीत अम्बिका सोनी की
शर्मीला का ये अमरप्रेम,ये गीत लता का है दिल्ली
क्या नगर ज़नाना है दिल्ली, लिल्लाह जवानी शीला की
ये शहर खानदानी प्यारा,क्या खूब सोनिया की दिल्ली
ये तीर्थ राजनेताओं की ,बस्ती सोये अरमानों की
चारों धामों से श्रेष्ठ धाम , ये कुर्सी के दीवानों की
दिल्ली है मित्र दलालों की , दिल्ली धरती है लालों की
दिल्ली में सब नेता होते, दिल्ली है खूब कमालों की
पश्चिम के फैशन भी पीछे इस दिल्ली की दिलबाज़ी से
कम से कम वस्त्रों में काया झलकाना अब इस से सीखे
फैशन वालों की पटरानी , श्रंगार-प्रियों की ठकुरानी
ज्यों इन्द्र सभा में इन्द्राणी, घोटालों की रानी दिल्ली

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...