Sunday, February 6, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 13

शेयर बेनामी लो कोई ना जाने थैली में क्या है
रहें ढूँढते कर अधिकारी किस चोली के पीछे क्या है
थैली को धो-धो कर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
अगर किसी से प्यार करो तो दिल अपना और प्रीत परायी
पर जो ये व्यापर करो तो तेरा शेयर तेरी कमाई
इस से प्रीत लगाकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
तिरछी गति सत्ता रथ की है फर्जी टेढ़ा प्यादा सीधा
पर इस धंधे में है जाता फर्जी सीधा,सीधा प्यादा
सीधे पन की मोहर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
ईश्वर ने संसार बनाया केवट ने जल पार कराया
जोरू ने घर बार बनाया शेयर ने व्यापर बनाया
घर वाली से छिप कर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...