Wednesday, February 9, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 24

घूम रहे हैं धूमकेतु सौ कब धरती को लग ले धक्का
कल ना जाने क्या हो जाये करले आज मुनाफा पक्का
चक्का जाम कराकर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
अब शीलायें बड़ी चपल हैं,तेरे हाथ कभी ना आनी
शेयर शेयर शेयर जप ले खो जाये ना कहीं जवानी
पाकर लेना-खोकर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
सोना तो चोरी हो जाता ऐसा खोटा काम न करना
हीरे-मोती-माणिक लेकर मुन्नी को बदनाम न करना
सोच समझ कर केयर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
राजनीति की इस बस्ती में रानी जाती राजा जाता
कट जाती हैं रोज़ पतंगें हाथ यहाँ बस मांजा आता
बेच पुरानी मोटर देना,जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...