Monday, February 7, 2011

शेयर खाता खोल सजनिया 16

ना जाने क्यों इस शेयर को "अंश"कहें ये हिंदी वाले
तू तो "पूरा" शेयर कहना दंश सहें ना कहने वाले
हिंदी की चिंदी कर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
कोर्ट वकीलों का है नाता खोट सुनारों के मन आता
वोट रुचे नेताजी को ही नोट मगर शेयर से आता
सबकी रूचि को तक कर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
फूल खिलाओ मुरझाएंगे फल लाओ तो सड़ जायेंगे
पालो तोते उड़ जायेंगे शेयर लाओ बढ़ जायेंगे
ऐसी चीज़ खोज कर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
शेयर भाग्य बदल देता है किस्मत तेरी गढ़े दलाली
सत्तापति बन कर बैठे हैं जाने कितने कुली-मवाली
तू भी सब दोहरा कर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...