Thursday, February 24, 2011

रक्कासा सी नाचे दिल्ली 12

जब वोटों के दिन आते हैं दिल्ली खा जाती है चंदा
फिर सूद-मुनाफाखोरों का बरसों तक चलता है धंधा
नेता हो जाते शेर सभी , जनता बनती भीगी-बिल्ली
तांडव होता महंगाई का, ता-ता-तत-थई करती दिल्ली
ये सबका मोल लगाती है लिख देगी तेरा भी लेखा
तू चम्पी कर , पद-रज लेले फिर नाम-मान कुछ भी लेजा
हों मौन तो शेरों-चीतों को परिवेश खुला देती दिल्ली
कोई विपक्ष में बोले तो नज़रों से दूर करे दिल्ली
बिल्ली पर कह कर वार करे,शक है चूहों को खाने का
पर ढूंढ न पाए ये सबूत आदम-खोरों के कर्मों का
आरोप लगें पर हों न सिद्ध, तू कुछ भी कर बस उजला रह
गन्दगी नहीं बर्दाश्त इसे है पर्यावरण-प्रिय दिल्ली
तू डाल-डाल हम पात-पात ,हैं इस से भी कहने वाले
जब सवासेर मिल जाते हैं आता है ऊँट पहाड़ तले
कुछ ऐसे भी हैं चिड़ीमार दिल्ली से ही धोखा करते
मदिरा-कन्या-चांदी पर ये देने की सोच रहे दिल्ली

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...