Friday, February 4, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 10

दुनियां तो आनी-जानी है, माया-ममता सब फानी है
बोनस शेयर अगर मिला तो जीवन नैया तर जानी है
चाहे नाम डुबोकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
पब्लिक इशू कराके ओपन गुड की भेली बनी कंपनी
दौड़ रही मक्खी सी पब्लिक करके सबकी सुनी-अनसुनी
तू भी टांग अड़ाकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
रिश्ते में जैसे हो साली होंठों पे जैसे हो लाली
बस वैसे ही इस धंधे में माल-हलाल कमाल-दलाली
दे साली को लेकर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
बेकारों को कार मिलेगी सड़क-छाप कोठी पा जाएँ
शेयर की अनुकम्पा हो तो भूखे भी रोटी पा जाएँ
भूखे लेना खाकर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...