Saturday, February 19, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ-अंतिम भाग

हो सकता है शेयर तुझको,पल-दो-पल में अमीर करदे
ऐसा ना हो पर ये दौलत घायल तेरा ज़मीर कर दे
तुझ से दूर तुझे कर दे ये जैसे भी हो शेयर लेना।
काल कभी तुझसे भी पूछे कैसे तूने करी कमाई
भूखों की थाली में तूने मारा पत्थर सेंध लगाई
पाप तेरा कहलाये कल ये जैसे भी हो शेयर लेना।
दुनिया है बाज़ार निराला,इसमें गिरवी आस पड़ी है
कहीं दबा है चांदी-सोना कहीं किसी की प्यास पड़ी है
धन से मन का खेल छोड़ दे,जैसे भी हो शेयर लेना।
लेना ही है तो दुनिया में दीन-धरम में शेयर लेना
भूखे नंगे लाचारों पर दया-रहम में शेयर लेना
तू नेकी में शेयर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...