Saturday, February 26, 2011

बदलाव के लिए

पिछले कुछ दिनों से मैं अपनी एक लम्बी कविता - रक्कासा सी नाचे दिल्ली आपको सुना रहा था। यह कविता आज से कई वर्ष पहले लिखी गयी थी। हाँ,इसका अंत करते-करते मैंने आज की कुछ पंक्तिया भी जोड़ दीं।यह न तो किसी दुर्भावना से लिखी गयी थी और ना ही किसी पूर्वाग्रह से। एक दिन मैं अपने कुछ मित्रों के साथ रात को सड़क पर घूम रहा था। घूमते-घूमते इस बात पर चर्चा होने लगी कि किस तरह बच्चन जी ने मधुशाला लिख दी। केवल मदिरा की बात करते-करते वे ज़माने के बारे में क्या-क्या कह गए। बस, हम में से कुछ मित्रों ने भी ठान लिया कि हम भी ऐसा ही कोई प्रयास करके देखेंगे। सभी मित्र थोड़ा-बहुत लिखने-पढने से तो जुड़े ही थे। किसी ने चाय को अपना विषय चुना,तो किसी ने पान की दुकान को।मैंने दिल्ली शहर को ही चुन लिया, क्योंकि मैं पिछले कई साल से दिल्ली में रह रहा था। और बस-हो गयी रक्कासा सी नाचे दिल्लीशुरू।
अब पिछले कुछ समय से मेरा मन कह रहा है कि मैं अमेरिका के बारे में कुछ लिखूं। यहाँ कुछ बातें मैं आपको और कहना चाहूँगा-
1अपने हर प्लान को मैं एक पूर्वघोषित समय में पूरा कर सकूं यह कोई आवश्यक नहीं।
२मुझे समय-समय पर अमेरिका के बारे में लोगों का जो द्रष्टिकोण सुनने-पढने को मिलता रहा है मैं उसे किसी कसौटी पर उतारने की कोई कोशिश नहीं करूँगा,बल्कि मैं वही लिखूंगा जो मेरी अपनी सोच होगी ।

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...