Sunday, February 6, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 14

ऐ पांडेजी शेयर लेना, भैया मिश्रा शेयर लेना
ओ लालाजी शेयर लेना, सुनो शाह जी शेयर लेना
सुब्रमण्यम शेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना। अ
पंडित जी तुम भी ले लेना खान साहब ना पीछे रहना
लहनासिंह तुम से भी कहना, फ्रेंड डिसूज़ा तुम भी लेना
मिलकर लेना लड़कर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
बच्चे की ना फ़ीस गयी तो घर में भी पढ़ सकता है वो
पर शेयर का पेड़ लगाया, चाहे जब चढ़ सकता है वो
सब कुछ तौल-मोल कर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
तुमतो खुद ही समझ दार हो अब ऐसों को क्या समझाना
ध्यान लगाना प्रभु में लेकिन सब पैसों को वहीँ लगाना
लेना ढोल बजाकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...