Thursday, May 31, 2012

THE REDOLENCE OF LOVE

      Holding  back  the  whip,  he  jumped  down  the  hoarse-cart. The  mare also slackened its pace and stopped.  The cart was now still. 
     Lovingly he caressed and lifted that leg of the mare which it jerked time and again due to pain. The wound was in a bad shape. A few drops of blood made it look fresh but he knew very well that this was an old wound. he has been seeing it for the last twenty days. 
     Thinking a bit he dag his hand in his pocket and made a calculation. Then, all of a sudden instead of going to the station he turned the 'Tonga' in the reverse direction. 
     The veterinary hospital of the town used to close at seven p.m.He asked a man what time of day it was. It was six thirty p.m. He kept the whip aside.Caressing the rump of the mare he made the Tonga move. It was a fifteen to twenty minutes distance. 
     Now, the mare was not kicking the wounded leg anymore. He noticed that in fifteen minutes it didn't even once. In front of the hospital he once again examined the wound. 
     Halting a little he searched his pocket and scratched  his head as if making a decision. 
     In a flash he mounted the Tonga and turned it towards the railway station. He again lifted the whip in his hand and was humming a tune!
     Trotting slowly the mare sensed that now the voice of its master doesn't carry that redolence which it had when he used to rub and knead its body daily with his rough and strong, but caring hands. [ The original short-story "Ghamak" is in Hindi]    

Wednesday, May 30, 2012

INTERVAL

आज से "उगते नहीं उजाले " को हम कुछ दिन का विराम दे रहे हैं ताकि  कहानी की नायिका 'लाजो लोमड़ी' कुछ सोच विचार कर के अपना जीवन सुधार सके।
     तब तक आप पढ़िए, मेरी सौ लघु-कथाओं में से कुछ चुनिन्दा छोटी कहानियों का इंग्लिश अनुवाद। 

Monday, May 28, 2012

उगते नहीं उजाले [आठ]

आज  लाजो  को   बड़े तालाब  पर  जाना  था।  वहां  बसंती  और  दलदली  घोंघे  रहते  थे।  दोनों  भाई  बेचारे  बड़े  मासूम  थे।  पर  न  जाने  कब  से  लोगों  ने  दोनों  ही  को  फ़िज़ूल  बदनाम  कर  रखा  था।  तालाब  के  सब  प्राणी  दोनों  का  इतना  मजाक  उड़ाते थे  कि किसी  भी  सुस्त  और  बुद्धू  प्राणी  को  सब  घोंघा  बसंत  ही  कहने  लगे  थे।  अब  दलदल  में  रहने  वाले  तेज़  तो  चल  नहीं  सकते  थे,  पर  लोग  थे  कि   बेबात  के  बेचारों  की  चाल  का  मजाक  उड़ा   कर  मिसाल  देते  थे।  किसी  भी  धीमे  चलने  वाले  को  देख  कर  कहते,  क्या  घोंघे  की  चाल  चल  रहा  है।   यहाँ तक  कि   कोई-कोई  तो  उन्हें  ढपोरशंख  कहने  तक  से  न  चूकता।  यह  हाल  था  जंगल  भर  में  उनकी  छवि  का।  
लाजो  को  आज  उनसे  मिलना  था।  वह  चाहती  थी  कि   उनकी  बिगड़ी  छवि  को  सुधारे।  लाजो  ने  रात  को  ही  सब  तय  कर  लिया  था।  उसने  सोचा  था  कि  वह  बसंती  और  दलदली  दोनों  भाइयों  के  लिए  ऐसे  जूते  लेकर  जाएगी  जिन्हें  पहन  कर  वे  तेज़  चाल  से  चलने  लगें।  आजकल  बच्चों  में  पहिये  वाले  'स्केटिंग  जूते'  बड़े  लोकप्रिय  थे।  इन्हें  पहन  कर  बच्चे  हवा  से  बातें  करते  थे।  लाजो  बसंती  और  दलदली  के  लिए  ऐसे  ही  जूते  तलाशने  की  फ़िराक  में  थी।  
आज  लाजो  ने  हल्का  नाश्ता  ही  लिया  था।  उसे  पूरी  उम्मीद  थी  कि   बसंती  और  दलदली  उसके  उपकार  से  खुश  होकर  उसे  कम  से  कम  भरपेट भोजन तो  करवाएंगे  ही।  बड़े  तालाब  की  मछलियों  की  महक  याद    करके  लाजो  के  मुंह  में  पानी  भर  आया।  
अब  लाजो  इस  उधेड़-बुन  में  थी  कि   ऐसे  जूते  कहाँ  से  हासिल  करे।  बाज़ार  में  कोई  उसे  एक  पैसा  भी  उधार  देने  वाला  न  था।  शू -पैलेस  वाली  बकरी  अनवरी  तो  उसे  दूर  से  देखते  ही दुकान  का  शटर  गिरा  लेती  थी।  
लाजो  को  सहसा  अपनी  वनविहार  वाली  सहेली  मंदोदरी  का  ख्याल  आया।  हिरनी  मंदोदरी  के  यहाँ  अभी  कुछ  दिन  पहले  ही  पुत्र  का  जन्म  हुआ  था।  मन्दू  अवश्य  ही  उसके  लिए  तरह-तरह  के  जूते  लाई   होगी,  लाजो  ने  सोचा।  हिरनी  को   अपने बेटे  को  तेज़  दौड़ना  जो  सिखाना  था।  लाजो  मन  ही  मन  प्रसन्न  होती  मन्दू  के  घर  की  ओर   चल दी।  छोटे  बच्चों  के  जूते-कपड़े   छोटे  भी  तो  जल्दी-जल्दी  हो  जाते  हैं,  तो  भला  दो  जोड़ी  छोटे-छोटे  जूते  देने  में  मन्दू  को  क्या  ऐतराज़  होता।  मन्दू  ने  बेटे  के  स्केटिंग  जूते  लाजो  को  दे  दिए।  
जूते  पाते  ही  लाजो  ने  एक  पल  भी  वहां  गंवाना  उचित  न  समझा।  वह  तेज़  क़दमों  से  बड़े  तालाब  की  ओर   चल  दी।  [जारी]    

Sunday, May 27, 2012

उगते नहीं उजाले [सात]

लाजो  ऊंची  आवाज़  में  गाकर   बोली-  

"जो  औरों  के  आये  काम,  उसका  जग  में  ऊंचा  नाम  
सारे   उसको   लाजो   कहते,   लाजवंती   उसका       नाम"

लाजो  अभी  झूम-झूम  कर  गा  ही  रही  थी,  कि   उसके  कान  में  सुरसुरी  होने  लगी।  और  तभी  कान  से  एक  छोटा  सा   झींगुर  कूद  कर  बाहर  निकला। झींगुर  तुरंत  लाजो  के  सामने  आया  और  बोला-  बुआ ,  पहचाना  मुझे ! मैं  हूँ  दिलावर,  बख्तावर  का  दोस्त ! अरे   बुआ  जी ,  आप  तो  बड़ा  मीठा  गाती  हो !
-सच !  कहीं  झूठी  तारीफ  तो  नहीं  कर  रहा?  लाजो  शरमाती  हुई  बोली।  
-लो,  मैं  भला  झूठी  तारीफ  क्यों  करने  लगा।  पर  बुआ,  झूठा  तो  वो  मेरा  दोस्त  बख्तावर  है,  कहता  था  कि   अब  लाजो  बुआ  कभी  गाना  नहीं  गाएगी।  उसने  तप  करके  वरदान  पाया  है।  
लाजो  अचानक  जैसे  आसमान  से  गिरी।  ये  क्या  हुआ ! उसे  तो  गाना  गाना  ही  नहीं  था।  अब  तो  उसे  मिला  वरदान  निष्फल  हो  जायेगा।  वह  निराश  हो  गई।  पर  अब  क्या  हो  सकता  था,  जब  चिड़िया  खेत  चुग  गई।  रोती -पीटती  लाजो  घर  आई।  उसने  सोचा  कि   वह  इस  तरह  हार  कर  नहीं  बैठेगी।  उसने  अगले  दिन  बड़े  तालाब  पर  जाने  का  निश्चय  किया  जहाँ  बसंती  और  दलदली  घोंघे  रहते  थे।  
लाजो  ने  हठ  न  छोड़ा।  उसने  मन  ही  मन  ठान   लिया  कि वह  अब  इन  अंगूरों  को  खट्टे  समझ  कर  दूर  ही  से  नहीं  छोड़ेगी,  और  इन्हें  किसी  भी  कीमत  पर  चख  कर  ही  रहेगी।  उसने  कठिन  तपस्या  करके  वरदान  पाया  था।  एक  बार  उससे  चूक  हो  भी  गई  तो  क्या, वह  दोबारा  कोशिश  करेगी।  यह  सोच  कर  वह  तैयार  होने  लगी।  [जारी]      

Saturday, May 26, 2012

उगते नहीं उजाले [छह ]

उसी  पेड़  की  सबसे  ऊंची  डाल  पर  बुज़ुर्ग  मिट्ठू  प्रसाद  रहते  थे।  उम्र  थी  लगभग  सौ  वर्ष।  दांत  तीन  बार  झड़  कर  चौथी  बार  आ  चुके थे।  चेहरे  पर  झुर्रियां  इतनी  थीं  कि   सारा  हरा  रंग  मटमैली  दरारों  में  भीतर  चला  गया  था।  फितूरी  से  पड़ौसी   होने  के  नाते  अच्छा  भाईचारा  था। उन्होंने  लाजवंती  लोमड़ी  को  पेड़  के  नीचे  देखा  तो  उनका  माथा ठनका।  उन्हें  अपने  बचपन  में   देखी  वह घटना  याद  आ  गई,  जब  धूर्त  लोमड़ी  ने  गाना  सुन ने  के  बहाने  कौवे  से  रोटी  झपट  ली  थी।  वे  शायद  पंचतंत्र  के  दिन  थे।  
वे  आवाज़  लगाकर  फितूरी  को  सावधान  करने  ही  वाले  थे कि   उनकी  आँखें  आश्चर्य  से  फटी  रह  गईं।  लाजो  के  हाथ  में  टिफिन  था, और  वह  आवाज़  लगा  कर  फितूरी  को  दावत  खाने  का  न्यौता  दे  रही  थी।  फितूरी  चकित  था  पर  नीचे  आकर दमादम  खाना  खाने  लगा। शायद  कई  दिन  का  भूखा  था।  पेट  भरते  ही  डकार  लेकर  बुआ  का  शुक्रिया  अदा  करना  न  भूला।  
ख़ुशी  से  झूमती  लाजो  लौट  रही  थी।  दूसरों  को  खिलाने  में  कितना  सुख  है,  यह  उसने  आज  जाना  था।  
उसे  मन  ही  मन  यह  सोच  कर  अपार  ख़ुशी  हो  रही  थी  कि   अब  जल्दी  ही  सभी  लोग  उसके  उपकारों  की  चर्चा  करने  लगेंगे  और  उसकी  छवि  जंगल  भर  में  अच्छी  हो  जाएगी।  उसे  अपनी  तपस्या  का  फल  जल्दी  मिल  जाने  की  पूरी  उम्मीद  हो  चली  थी।  
लाजो  का  मन  हो  रहा  था  कि   उसके  पंख  लग  जाएँ  और  वह  यहाँ-वहां  उड़ती फिरे। उसके  पाँव  ज़मीन  पर  नहीं  पड़   रहे  थे। 
अचानक  लाजो  ने   एक पतली  सी  आवाज़  सुनी।  वह  चौकन्नी  होकर  यहाँ-वहां  देखने  लगी।  उसे  कोई  दिखाई  न  दिया।  
शायद  उसे  कोई  भ्रम  हुआ  हो,  यह  सोच  कर  वह  आगे  बढ़  गई।  पर  थोड़ी  ही  देर  में  उसे  वही   आवाज़  फिर  सुनाई  दी।  नहीं,नहीं,  यह  भ्रम  नहीं  हो  सकता।  अवश्य  आसपास  कोई  है,  यह  सोच  कर  वह  ठिठक  कर  खड़ी   हो  गई। आवाज़  बड़ी  पतली  थी,  और  कहीं  पास  से  ही  आ  रही  थी।  लाजो  ने  ध्यान  से  सुन ने  की  कोशिश  की।  कोई  बड़ी  मस्ती  में  गा  रहा  था-
" जो  औरों  के  आये  काम,  उसका  जग  में  ऊंचा  नाम  
बोलो  क्या   कहते हैं  उसको,  कौन  बताये  उसका  नाम?"
लाजो  ने  सुना  तो  झूम  उठी।  [जारी]           

उगते नहीं उजाले [पांच]

भला   इतना खाना  वह  कैसे  बनाती।   उसने तो  आजतक  अपने  लिए  खाना  अपने  हाथ  से  न  बनाया  था।  सदा  यहाँ-वहां  सूंघती ,  चखती  ही  अपना  पेट  भरती   रही  थी।  उसके  लिए  भोजन  बनाना  बड़ा  ही   मुश्किल काम  था।  और  दूसरों  के  लिए  भोजन  तैयार  करना,  ये  तो  उसके  खानदान  में  कभी  किसी  ने  न  किया  था।  उसके  पुरखे  तो  अपने  पूर्वजों  का  श्राद्ध  तक  दूसरों  के  घर  मनाते  आये  थे।  
उसने  सोचा,  जैसे  आजतक  निभी  है,  आगे  भी  निभेगी।  जिसने  आलस   दिया है  वही   रोटी  भी  देगा।
वह  किसी  ऐसे    शिकार की तलाश  में  निकल  पड़ी,  जो  उसे  तो  भोजन  खिला  ही  दे,  साथ  में  फितूरी  के  लिए  भी  टिफिन  में  भरकर  भोजन  देदे।  
वह  ऐसे  सोच  में  डूबी  चली  जा  रही  थी  कि   उसे  एक  तरकीब  सूझ  गई।  उसे  मालूम  था  कि   भालू  मधुसूदन  इस  समय  अपने  घर  में  नहीं  होता।  वह  शहद  इकठ्ठा  करने  के  लिए  दोपहरी  में  जंगल  की  खाक  छानता  रहता  है।  वह  अपने  घर  पर  कभी  ताला  लगाकर  भी  नहीं  रखता  था। और  सबसे   मजेदार बात  तो  यह  थी  कि   उसके  घर  में  खाने-पीने  की  तरह-तरह  की  चीज़ें  हमेशा  रहती थीं।  आलसी  जो  ठहरा।  क्या  पता  कब  जंगल  न  जाने  की  इच्छा  हो  जाये,  और  घर  बैठे-बैठे  खाकर   ही  काम  चलाना  पड़े।  
बस  फिर  क्या  था,  लाजो  ने  मधुसूदन  के  घर  की  राह  पकड़ी।  सचमुच  चारों  ओर   कोई  न  था।  मधुसूदन  की  रसोई  में  घुस  कर  लाजो  ने  छक   कर  शहद  पिया। फिर  उसी  के  यहाँ  से  एक  छोटा  बर्तन  ले,  फितूरी  के  लिए  भी  शहद  भर  लिया।  साथ  में  कुछ  मीठे  शहतूत  भी  रखना  न  भूली,  जिन्हें  मधुसूदन  कल  ही  रामखिलावन  बन्दर  से  झपट  कर  लाया  था।  
अब  लाजो  खुश  थी।  उसने  फितूरी  के  घर  की  राह  पकड़ी।  दोपहर  का  समय  था। चारों  ओर   तेज़  लू  चल  रही  थी।  ऐसे  में  भला  फितूरी  जाता  भी  कहाँ।  वहीँ  था।  जिस  पेड़  पर  फितूरी  रहता  था,  उसी  के  नीचे   पहुँच   लाजो  ने  दम  लिया।  [जारी]        

Friday, May 25, 2012

आपसे  बातचीत  के 500 लम्हे ...अर्थात  पांच  सौवीं  पोस्ट ...उन  सभी  को  धन्यवाद  जिन्होंने  इस  ब्लॉग  के  झरोखे  से  कभी  न  कभी  झाँक  कर   मेरी हौसला-अफज़ाई  की ...

उगते नहीं उजाले [ चार ]

लाजो   ने मन  ही  मन  यह  निश्चय  किया  कि   वह  कल  से  रोज़  किसी  न  किसी  जीव  - जंतु के  पास  जाएगी  और  सेवा  व  त्याग  से  उसकी  छवि  को  निखारने  की  कोशिश  करेगी।  उसने  मन  ही  मन  इस   बात  की  भी  गांठ  बाँध  ली  कि   कुछ  भी  हो  जाए,  उसे  किसी  भी   कीमत  पर  गाना  नहीं  गाना  है। 
उसने  सोचा  कि   वह  अगली  सुबह  सबसे  पहले  "फितूरी  कौवे"  से  मिलने  जायेगी।  फितूरी  तमाम  जंगल  में  बहुत  बदनाम  था।  उसकी  छवि  अच्छी  नहीं  थी।  
लाजो  ने  उस  रात  भरपेट  भोजन  किया ,  और  आराम  से  सोने  के  लिए  अपनी  मांद   में  चली  गई। 
लाजो  की  आँख  आज  पौ-फटते   ही   खुल  गई।  
उसने  मन  ही  मन  एकबार  भगवन  मूषकराज  का  स्मरण  किया  और  हाथ-मुंह  धोने  तालाब  पर  चली  आई।  
आज  उसे  फितूरी  कौवे  से  मिलने  जाना  था।  वह  सुन  चुकी  थी  कि   फितूरी  को  लोग  अच्छा  नहीं  समझते  थे।  वह   जहाँ भी  जाता ,  दूर  ही  से  उसे  देख  कर  शोर  मच  जाता,  कि   आ   गया   काना  फितूरी,  सब  छिपा  लो  खीर-पूड़ी।  
सब  समझते  थे  कि   फितूरी  खाने-पीने  का  बेहद  शौक़ीन  है।  और  सारा  माल  मुफ्त  में  खाना  पसंद  करता  है।  वह  जिस  किसी  को  कुछ  भी  खाते  देखता,  उसी  से  खाना  छीन-झपट  कर  उड़  जाता।  इतना  ही  नहीं,  बल्कि  लोग  कहते  थे  कि   उसकी  आँखों    में  एक  ही  पुतली  है। उसी  को   मटकाता  हुआ  वह  कभी  इधर  देखता,  कभी  उधर।  इसी  से  सब  उसे  काना  कहते  थे।  
लाजो  ने  सोचा  कि   जब  वह  फितूरी  से  मिलने  जाएगी  तो  उसके  लिए  बढ़िया-बढ़िया ,  तरह-तरह  का  खाना  बना  कर  ले  जाएगी।  आज  वह  उसे  जी-भर  कर  खाना  खिला  देगी।  वह  खाने  से  इतना  तृप्त  हो  जायेगा  कि   फिर  वह   किसी  से  छीन  कर  खाना  भूल  ही  जायेगा। फिर  सब  कहेंगे  कि   फितूरी  रे  फितूरी  सुधर  गया,  माल  उड़ाना  किधर  गया? 
मन  ही  मन  लाजो  ने  सोचा  कि   फिर  फितूरी  मेरी  प्रशंसा  करेगा।  और  खुश  होकर  मुझे  दुआएं  देगा।  लोग  उसे  भी  बुरा  नहीं  कहेंगे।  
यह  सब  सोचती  लाजो  तैयार  होकर  अपनी  रसोई  में  आई।  
मगर  लाजो  तो  ठहरी  लाजो  ! [  जारी  ]    

Thursday, May 24, 2012

उगते नहीं उजाले [तीन]

इंसानों  के  देवी-देवता  सब  अपना  कोई  न  कोई  वाहन  रखते  हैं।  लक्ष्मी  के  पास   उल्लू है,  सरस्वती  के  पास  हंस  है,  गणेश  के  पास  चूहा  है,  दुर्गा  शेर  पर  बैठती  हैं।  बस,  ये  सब  पशु-पक्षी हमारे  देवता  ही  हुए  न.  हमारे  ये  साथी  देवताओं  से  कम  महिमामय  थोड़े  ही  हैं।  तुम  इन्हें  पुकार  कर  तो  देखो,  ये  अवश्य  आयेंगे।  तुम्हारी  तपस्या  से  प्रसन्न  होंगे।  यह  कह  कर  बख्तावर  तालाब  की  ओर   बढ़  गया।  
लाजवंती  की  आँखें  ख़ुशी  से  चमकने  लगीं।  
बस,  लाजो  ने  वहीँ  धूनी  रमा  ली।  न  खाना,  न  पीना,  दिनरात  तपस्या  करने  लगी।  आँखें  बंद  कीं ,और  जपने  लगी-  "लक्ष्मीवाहन  जयजयकार ,  गणपतिमूषक  यहाँ  पधार".
कई  दिन  तक  भूखी-प्यासी  लाजो  तप    में  लीन   रही ,  और  एक  दिन  उसकी  तपस्या  से  प्रसन्न  होकर  एक  विशालकाय  चूहा  वहां  अवतरित  हुआ।  
- आँखें  खोलो  बालिके!
लाजो  के  हर्ष  का  पारावार  न  रहा।  मूषकराज  को  देख  कर  वह  हर्ष  विभोर  हो  गई।  वह  ये  भी  भूल  गई  कि  वह  कई  दिन  की  भूखी-प्यासी  है।  उसकी  दृष्टि  मूषकराज  से  हटती  ही  न  थी।  चूहे  ने  कहा,  हम  तुम्हारी  पूजा  से  प्रसन्न  हुए।  मांगो,  तुम्हें  क्या  माँगना  है?
-भगवन,  मैं  एक  अभागन  लोमड़ी  हूँ।  वर्षों  से  सभी  मुझे  चालाक,  धूर्त  और  मक्कार  समझते  हैं।  मुझे  ऐसा  वरदान  दीजिये,  कि   मेरी  दृष्टि  निर्मल  हो  जाये।  मुझे  भी  सब  आदरणीय  मानें,  सब  मेरी  इज्ज़त  करें।  
मूषकराज  बोले-  बहुत  अच्छा  विचार  है।  किन्तु  देवी,  इस  युग  में  बिना  श्रम  किये  किसी  को  कुछ  मिलने  वाला  नहीं  है।  केवल  भक्ति,  चापलूसी  या  सिफारिश  से  काम  नहीं  चलने  वाला।  तुम्हें  स्वयं  इसके  लिए  एक  उपाय  करना होगा। 
-  वो  क्या  भगवन  !
-  तुम्हें  सभी  जंगल-वासियों  के  बीच बारी-बारी  से  जाना  होगा।  उनकी  सेवा  करनी  होगी।  सब  पशु-पक्षियों  पर  खराब  छवि  का  जो  कलंक  लगा  है,  उसे  मिटाना  होगा।  तब  तुम्हारी  छवि  स्वयं  पावन  और  स्वच्छ  हो  जायेगी।  सब  तुम्हें  सराहेंगे,  तुम्हारा  सम्मान  करेंगे।  हाँ,  किन्तु  यह  ध्यान  रखना,  कि   उनके  पास  से  लौटते  समय  रास्ते  में  कोई  गीत  तुम  बिलकुल  मत गाना, नहीं  तो  तुम्हारा  सारा  तप  निष्फल  हो  जाएगा।  तथास्तु  !
यह  कह  कर  चूहा  पास  के  एक  बिल  में   समा गया।  [जारी]          

Wednesday, May 23, 2012

उगते नहीं उजाले [दो]

लोमड़ी  बोली-  पर  यह  कितनी  गलत  बात  है।  सत्यानाश  हो  इस  मुए  पंचतंत्र  का,  जिसने  हमारी  छवि  बिगाड़  कर  रख  दी  है।  युग  बीत  गए  पर  ये  इंसान  आज  भी  हमें    वैसा का वैसा  ही  समझते  हैं।  अरे  ये   खुद भी  तो  तब  से  इतना  बदले  हैं,  तो  क्या  हम  नहीं  बदल  सकते।  हमें  अभी  तक  सब  बुरा  ही  समझते  हैं।  चाहे  जो  हो  जाए,  मैं  तो  यह  सब  नहीं  सह  सकती।  
-पर  तुम  करोगी  क्या  बुआ।  अकेला  चना  क्या  भाड़   फोड़  सकता  है।
-बेटा,  एक  और  एक  ग्यारह  होते  हैं।  तू  मेरा  साथ  दे  फिर  देख,  मैं  कैसे  सबकी  अक्ल  ठिकाने  लगाती  हूँ।  मैं   ऐसा काम  करुँगी  कि   धीरे-धीरे  सब  जानवरों  की  छवि  बदल  कर  रख  दूंगी,  ताकि कोई  हमारे  जंगल  पर  अंगुली  न  उठा  सके।  बोल,  तू  मेरा  साथ  देगा  न  ?
-बुआ  साथ  तो  मैं  दे दूंगा,  पर  देखना  कहीं   ज्यादा चालाकी  मत  करना,  वरना  लोग  कहेंगे-  वो  आई  चालाक  लोमड़ी। बख्तावर  यह  कह  कर  हंसने  लगा।  
-चल  हट,  शरारती  कहीं  का।  मेरा  मजाक  उड़ाता  है। मैंने  तो  समझा  था  कि   तू  ही  समझदार  है,  तू  मुझे  कोई  ऐसा  रास्ता  बतायेगा  जिससे  मैं  सबका  भला  कर  सकूं।  
बख्तावर  गंभीर  हो  गया।  बोला-  अरे,  अरे,  तुम  तो  नाराज़  होने  लगीं।  मैं  तुम्हें  उपाय  बताता  हूँ,  सुनो।  तुम  ऐसा  करो  कि   एकांत  में  बैठ  कर ,  अन्न-जल  छोड़  कर  तपस्या  करो।  तप   करने  से  देवी-देवता  प्रसन्न  होते  हैं,  और  वे  खुश  होकर  मनचाहा  वरदान  दे  देते  हैं।  जब  देवी-देवता  प्रसन्न  हो  जाएँ  तो  तुम  उनसे  कह  देना  कि तुम  सब  पशु-पक्षियों  की  छवि  सुधारना  चाहती  हो,  वो  ज़रूर  तुम्हारी  मदद  करेंगे।  
लाजो  की  आँखें  एक  पल  को  चमकीं ,  लेकिन  फिर  वह  बोली-  पर  देवी-देवता  हम  जानवरों  की  क्यों  सुनेंगे।  उनकी  पूजा  तो  सैंकड़ों  इंसान  करते  रहते  हैं।  
-ओ  हो  बुआ,  तुम  भी  अजीब  हो।  हम  इंसानों  के  देवी-देवताओं  की  पूजा  क्यों  करेंगे,  हमारे  अपने  भी  तो  देवता  हैं।  
-सच!  ये  तो  मुझे  मालूम  ही  न  था।  कौन  से  हैं  वे?  
बख्तावर  बोला-  वे  भी  इंसानों  के  देवताओं  के साथ  देवलोक  में  ही  रहते  हैं।  
-क्यों  मज़ाक  करता  है?  लाजो  फिर  बुझ  गई।  
-अरे  मैं  मज़ाक  नहीं  कर  रहा  बुआ ! तुम्हें  पता है...[जारी]         

Tuesday, May 22, 2012

उगते नहीं उजाले

  बच्चों  की  छुट्टियाँ  हो  गईं।  अब  कुछ  दिन  केवल  उनके  लिए ...

लाजो  आज सुबह  से ही  बहुत  उदास  थी।  उसका  मन  किसी  भी  काम  में  न  लग  रहा  था।  वह  चाहती  थी  कि   अपने    दिल की बात  किसी  न  किसी  को  बताये,  तो  उसका  बोझ  कुछ  हल्का  हो।  लाजो  लाजवंती  लोमड़ी  का  नाम  था।  
संयोग  से  थोड़ी  ही  देर  में  बख्तावर  खरगोश  उधर  आ  निकला।  वह  शायद  किसी  खेत  से  ताज़ी  गाज़र  तोड़  कर  लाया  था  जिसे  पास  के  तालाब  पर  धोने  जा  रहा  था।  
बख्तावर  के  बच्चे  बहुत  छोटे  थे।  वह  उन्हें  मिट्टी लगी  गाज़र  न  खिलाना  चाहता  था।  इसीलिए  जल्दी  में  था।  पर  लाजवंती  लोमड़ी  को  मुंह  लटकाए  बैठे  देखा,  तो  उससे  रहा  न  गया।  झटपट  पास  चला  आया,  और  बोला-  अरे  लाजो  बुआ,  ये  क्या  हाल  बना  रखा  है! तुम  इस  तरह  शांति  से  बैठी  भला  शोभा  देती  हो! क्या  तबीयत  खराब  है?  
लाजो  ने  बख्तावर  को  देखा  तो  झट  खिसक  कर  पास  आ  गई।  बोली,  तबीयत  खराब  क्यों  होगी।  पर  आज  जी  बड़ा  उचाट  है।  क्या  बताऊँ,  आज  सुबह-सुबह  मुझे  न  जाने  क्या  सूझी  कि   मैं  घूमती- घूमती  जंगल  से  बाहर  निकल  कर  पास  वाली  बस्ती  में  पहुँच  गई।  वहां  एक  पार्क  था।  लोग  सैर-सपाटा  कर  रहे  थे।  बच्चे  खेल  रहे  थे। सोचा,  मैं  भी  थोड़ी  देर  ताज़ी  हवा  खा  लूं।  मैं  एक  झाड़ी   की  ओट  में  छिपने  जाने  लगी  कि   तभी  मैंने  बच्चों  की  आवाज़  सुन  ली।  शायद  उन्होंने  मुझे  देख  लिया  था।  एक  बच्चा  बोला-  अरे,  अरे,  वो  देखो,  चालाक  लोमड़ी।  कहाँ  भागी  जा  रही  है।  तभी  दूसरा  बच्चा  बोला-  शायद  यहाँ  के  अंगूर  खट्टे  होंगे,  इसीलिए  जा  रही  है।  बस  भैया,  मेरा  पारा सातवें  आसमान  पर  पहुँच  गया।  अब  तुम्हीं  बताओ ,  भला  मैंने  क्या  चालाकी  की  थी  उन  बच्चों  के  साथ?  और  अंगूर  की  बात  यहाँ  बीच  में  कहाँ  से  आ  गई?  
बख्तावर  जोर-जोर  से  हंसने  लगा।  बोला-  अरे  बुआ,  तुम  तो  बड़ी  भोली  हो।  बच्चे  पंचतंत्र  के  ज़माने  से  ही   हमारी कहानियां  सुन-सुन  कर  हमें  जान  गए  हैं  न.  सो  जैसा  उन्होंने  सुना,  वैसा  कह  दिया।  [जारी]       

Monday, May 21, 2012

केवल 25 या 50 वां साल ही मुबारक क्यों?

मैं  अपने  एक  मित्र  के  यहाँ  गया।  चाय  पीते  हुए  उनकी  पत्नी  अपने  देवर  और  देवरानी  को  याद  करने  लगीं,  जिनका  कुछ  दिनों  पूर्व  एक  कार -दुर्घटना  में  निधन  हो  गया  था।  बोलीं-  उनकी  शादी  को  चौबीस  साल  हुए  थे,  बेचारे  शादी  की  25वीं   साल-गिरह  भी  नहीं   मना   सके।  
मुझे  लगा,  क्या  ख़ुशी  मनाने   के  लिए  25वें  या   50वें  साल  का  ही  एकाधिकार  है?  खुशियाँ  तो  आप  लगातार  मना  सकते  हैं।  सालगिरह  तो  हर  साल  आती  है,  और  साधारण  नहीं,  विशेष ...बिलकुल  ख़ास,  जिसे  आप पूरे  उल्लास  से  मना सकते  हैं-  
पहले  साल  "पेपर जुबली " मनाइए।  
दूसरे  साल  "कॉटन  जुबली" का  आनंद  लीजिये।  
तीसरा  साल  "लेदर  जुबली"  का  होगा। 
चौथे  साल  को  "वुड  जुबली" के  रूप  में  यादगार  बनाइये।  
छठे  साल  आपको  "आयरन  जुबली"  अर्थात  लौह  जयंती  मनानी  है।  
सातवाँ  साल  आपकी  "वूल  जुबली"  लेकर  आएगा।  
आठवें  साल  को  "ब्रोंज  जुबली" के  रूप  में  दर्ज  कर  लीजिये।  
नवें  साल  आपको  अपनी " पोटरी  जुबली"  मनानी  है।  
दसवें  साल  को  "टिन   जुबली" के  रूप  में  एन्जॉय  कीजिये।  
ग्यारहवें  साल  फिर  "स्टील  जुबली"  होगी।  
बारहवां  साल  "सिल्क  जुबली"  लेकर  आएगा।  
तेरहवें  साल  को  अशुभ  बिलकुल  मत  समझिये,  यह  आपकी  "लेस  जुबली"  है।  
चौदहवें  साल  में  आपके  सामने  आपकी  "आइवरी  जुबली"  आएगी।  
पन्द्रहवें  साल  आपको  मनानी  है  अपनी  "क्रिस्टल  जुबली"1
खुशियाँ  मनाते-मनाते  थक  गए  हों,  तो  एक  दशक  आराम  कीजिये,  और  फिर  मनाइए  जोर-शोर  से "सिल्वर  जुबली"1
30वें  साल  आपको  'पर्ल  जुबली', 35वें  साल  'कोरल  जुबली',  40वें  साल  'रूबी  जुबली',  45वें  साल  'सफायर   जुबली'  और  तब  50वें  साल  में  "गोल्डन  जुबली"  मनानी  है।  आपकी  खुशियों  पर  कभी विराम  न  लगे-  मनाते  जाइये-  55वें  साल  में  'एमराल्ड  जुबली',  60वें  साल  में  "डायमंड  जुबली"  75 वें  साल  में  "प्लेटिनम  जुबली" और  100वें  साल  में  "सेंचुरी"
और  फिर  तो  आपका  हर  लम्हा  सचिन  तेंदुलकर  के  शतक  के  समान   है।         

Saturday, May 19, 2012

"जबरन"

जबरन  एक  बहुत  असरदार  शब्द  है।  इसका  अर्थ  है-  जबरदस्ती।  सरल  शब्दों  में  कहें  तो  यह  एक  ऐसी  क्रिया  है,  जिससे  कोई  व्यक्ति  वह  कार्य  करता  है,  जो  हो  न  रहा  हो।  अर्थात  जो  कुछ  घट   न  पा  रहा  हो,  उसे  बलपूर्वक  संपन्न  कर  देना 1
 जैसे  उदाहरण  के  लिए  प्रहरियों  द्वारा  रोके  जाने  पर  भी  शाहरुख़  खान  वानखेड़े  स्टेडियम  में  प्रविष्ट  हो  जाएँ।  प्रविष्ट  न  हो  पाने  की  दशा  में  गालियाँ  देने  का  आम-तौर  पर  रिवाज़  है।  अब  ख़ास  लोग  आम-रिवाजों  का  कितना  पालन  करें,  यह  अलग  चिंतन  का  विषय  है।  
हमारे  देश  में  एक  रिवाज़  और  है।  यहाँ  तमाम  यांत्रिक  सुविधाओं  व  वैज्ञानिक  दृष्टिकोण  के  बावजूद  यह  पहले  से  पता  नहीं  लग  पाता कि  कल   मौसम  कैसा  रहेगा।  अतः  जब  मौसम  बिगड़  कर  सामने  आता  है  तो  जनता-जनार्दन   के  पास  गाली   देने  के  अलावा  और  कोई  विकल्प  शेष  नहीं  रहता।  
हो  सकता  है  कि   देश  को  कल  फिर  कुछ  गालियाँ  सुननी  पड़ें।  जब  रात  को  सोते  हुए  आदमी  का  खून  कोई  मच्छर जबरन  पी जाता  है  तो  आदमी  नींद  में  भी  गालियाँ  बुदबुदाता  पाया  जाता  है।  तो  फिर  अगर  जागते  हुए  पूर्व  महामहिम  नारायण  दत्त  तिवारी  का  खून  कोई  डाक्टर  'जबरन'  ले  जायेगा,  तो  सोचिये,  क्या  होगा?
इससे  भी  बड़ा  सवाल  तो  ये  है  कि   अगर  डाक्टर  खून  को  देख  कर 'यूरेका-यूरेका' [मिल गया-मिलगया] चिल्ला पड़ा  तो  क्या  'जबरन'  वाली  सारी   धाराएँ  बेचारे  तिवारीजी  पर  लगेंगी? बड़ा  खराब  कानून  है!     

Thursday, May 17, 2012

रिकार्ड यहाँ भी टूटते हैं

एक  दुनिया  ऐसी  भी  है ,  जहाँ केवल  रिकार्ड  बनते  हैं।  यह  दुनिया  है,   नेताओं  की दुनिया।  अर्थात  सत्ता-जगत . प्राय  यहाँ  घोटालों  के  रिकार्ड  बनते  हैं। कब   किसने  देश  को कितने  करोड़   का  नुक्सान  पहुँचाया, कब  किसने  कहाँ   कितना  कमीशन  खाया, यह  सांख्यिकी  अक्सर देश को  पता  चलती  ही  रहती है। 
दूसरी   तरफ  एक  दुनिया  ऐसी  भी  है, जहाँ   हर  चेहरा  कैमरों  को   सूरजमुखी  की   तरह  निहारता  ही  रहता  है, यहाँ  हर   आदमी की  हर   बात के   लिए तस्वीर   खींचने की  अहमियत   होती है। लोग   करोड़ों खर्च  कर  डालते  हैं,  मीडिया   में  अपना चेहरा   झलकाने के  लिए।  
यह   दिलचस्प  है,  कि   कभी -कभी  ये  दोनों  दुनियां   दो   ग्रहों की  भाँति   आपस  में    टकरा भी जाती  हैं। फिर   देखने  वालों को  मज़ा   आता है  कि   रिकार्ड  बनाने  वाली   संसद में  कभी-कभी  रिकार्ड  टूटते  भी  हैं।  
एक  रिकार्ड  हाल  ही  में   तब  टूटा  जब  एक  पुरानी  और  प्रतिष्ठित  नेता  ने  सभापति   से  शिकायत  की  कि   मेरी  तस्वीर   क्यों खींची  जा   रही है? क्यों  बार -बार जनता  में   मेरा चेहरा  दिखाया  जा   रहा है?
 बेचारे  सभापतिजी यह  भी  नहीं कह पाए कि  मैडम ,  भूल  गईं,  कभी   आपने  अपने  चेहरे  को  रजतपट   पर  लाने के  लिए स्क्रीन - टेस्ट  दिया था,  फिर  घर-घर  में  आपकी   तस्वीरें लग  गईं  थीं,  लोग  आपका  चेहरा  फिर-फिर  देखने  के  लिए  आपकी  नई   फिल्म  का  इंतज़ार   किया करते  थे .
बेबी  आराध्या बच्चन  की  दादी,  ऐश्वर्या मैडम  की  सास  माननीय  जया  बच्चन  ने  यह  ऐतराज़  केवल  इसलिए  जताया  था,  कि   उधर  राज्य-सभा में  शपथ  तो  ले  रही  थीं  उमरावजान  खूबसूरत  रेखा,  और  कैमरा  निगोड़ा  बार-बार  जा  रहा  था  जया  जी  पर। बात  तो  जायज़  थी,  रिकार्ड  टूटे  तो  टूटे।  
देखें,  "पा" इस  पर  क्या  कहते  हैं?    

Wednesday, May 16, 2012

एक सुनहरा सेब उगा है दीपक मित्तल के दिमाग के बाग़ में

आज  एक  विज्ञापन  में  पढ़ा  कि   श्री  दीपक  मित्तल  राजस्थान  विधान-सभा  के  अगले  चुनाव  में  सभी  200  सीटों  पर  "ईमानदार"  उम्मीदवारों  को  चुनाव  लडवाना  चाहते  हैं,   ताकि  देश  से  भ्रष्टाचार,  आरक्षण , और अपराध  जैसी  बीमारियाँ  मिट  सकें।  उन्होंने  अन्ना  समर्थकों  और  ऐसी  ही  विचारधारा  वाले  लोगों  का  आह्वान  किया  है  कि   वे  आगे  आयें,  ताकि  दिसंबर  तक  सभी  उम्मीदवारों  के  नाम  की  घोषणा  की  जा  सके।  उनके  अनुसार  इस से  उम्मीदवारों  को  अपने  प्रचार  और  अन्य  तैय्यारी  के  लिए  पर्याप्त  समय  भी  मिल  जायेगा।  
यह  एक  अच्छा  विचार  है।  एक  सुनहरा  जादुई  सेब  उनके  मानस-बाग़  में  उगा  है।  इसके  खाने  से  बीमार  देश  स्वास्थ्य-लाभ  कर  सके,  तो  यह  एक  चमत्कार  ही  होगा।  
चमत्कार  भी  होते  ही  हैं ...

Saturday, May 12, 2012

"मदर्स डे" किसका दिन है?

माँ के  लिए  एक  दिन? 
कैसा लगता  है,  सुनकर। 
क्या करें  इस  दिन?
क्या  रसोई  से  माँ   को  आज  का  अवकाश  देदें?
क्या  माँ   को  नए  कपड़े दिलवा कर उसे  कहीं  बाहर  खाना  खिला  कर  लायें?
क्या आज के  दिन  घर  के  हर  काम  के  लिए  पिता  से  ही  कहें?
या रख लें  हम  सब  कोई  करवा-चौथ  जैसा  व्रत  माँ  के  लिए 
नहीं-नहीं, ये  सब  बड़ा  मुश्किल  है ...
चलो माँ   से  ही  कहें,  आज  कुछ  अच्छा सा  बना  कर  खिलाये ...
माँ   से  ही  कहें-  करे  सबकी  फरमाइश  पूरी ...
मनवाए  'मदर्स  डे'...

रेस

रेस  जब  होती  है,  तो  जीती  भी  जाती  है,  हारी   भी  जाती  है। जीतने  वाले  भी  कुछ  सीखते  हैं,  रेस  से,  और  हारने  वाले  भी।  क्या  आपने  कभी  सोचा  है,  कि   कभी-कभी  हारने  वाले  जीतने  वालों  से  ज्यादा  भाग्यशाली  होते  हैं।
कैसे?
तो  सुनिए,  जीतने  वाले  जो  बहुत  सारी   चीज़ें  जीतते  हैं,  उनमें  एक  चीज़   होती है  ईर्ष्या।  और  हारने   वाले  जो  बहुत  सारी चीज़ें  जीतते  हैं,  उनमें  एक  चीज़  होती  है-  सहानुभूति।  अब  आप  खुद  तय  कीजिये,  कि   ईर्ष्या  और  सहानुभूति  में  से  कौन  सी  चीज़  ज्यादा  काम  की  है?
एक  रेस  वह  भी  होती  है,  जिसमें  दौड़ा  नहीं  जाता,  बल्कि  दौड़ाया  जाता  है।
कभी  वैजयंती माला,  सुनील दत्त,  अमिताभ  बच्चन,  राजेश  खन्ना,  दीपिका,  गोविंदा, जया बच्चन, जयाप्रदा , हेमा मालिनी,  धर्मेन्द्र,  शत्रुघ्न  सिन्हा,  लता मंगेशकर,  ...और चेतन  चौहान,  नवजोत  सिद्धू इस  रेस  में  शामिल  रहे  हैं।
दुनिया  एक  रेस  है,  और  रेस  कभी  नहीं  थमती।  रेखा  और  सचिन  जैसी  हस्तियों  के  हाथ  में  रेस  का  परचम  आया  है...यह  रेस  बहुत  ऊंचाइयों  तक  जाय,  ऐसी  शुभकामनायें ...     

Friday, May 11, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ bhag 65-अंतिम भाग ]

     "बड़े  शौक से  सुन  रहा  था  ज़माना...'नाना'  ने  जब  यह  कहानी  पूरी  की।  रोज़  का  यही  नियम  था,  डिनर  के  बाद  दोनों  बच्चे  नाना  के  पास  आ  बैठते,  और  कहानी  शुरू  हो  जाती। भारतीय  दंपत्ति,  उन  बच्चों  के  माता-पिता  भी  दांतों  में  अंगुली  दबा  कर  नाना  की  यह  लम्बी  कहानी  सुनते।  इस  कहानी  का  सबसे  बड़ा  लाभ  यह  हुआ  कि   बच्चों  के  मन  से  "आत्मा"का  डर   निकल  गया।  उन्हें  अहसास  हो  गया  कि   आत्मा  तो खुद  एक निरीह प्राण  होती  है,  वह  भी  केवल  अपने  दुःख  में  सराबोर ...वह  भला  किसी  को  क्या  कष्ट  पहुंचाएगी? नाना  ने  बताया-  आत्मा केवल  पानी  के  बुलबुलों  जैसा  अहसास  है,  जो  कभी-कहीं  स्थाई  नहीं  रहता। उससे  जो  भी  कष्ट  या  भय  होता  देखा  जाता  है,  वह  भी  केवल  क्षणिक  प्रभाव के  लिए ही  होता  है ...बाकी   सब  अपने  चित्त  की  ही  कमजोरी  है।
     बच्चों  को  यह  बात  दिलचस्प  लगी  कि   जब  भी  कोई  नया  जन्म  होने  को  होता  है,  चाहे  किसी  रूप  में,  किसी  भी  योनी  में  हो,  तभी  क्षणांश  के  लिए  जीव  छटपटाता  है,  और  यदि  वह  पिछले  जन्म  की  किसी  अतृप्त  आत्मा  का  प्राण  होता  है,  तो  वही   "आत्मा" रुपी  अवस्थिति  से  अपने  मन  की  बात  कहने  की कोशिश  करता  है ...किसी   उपाय-प्रयास- प्रायश्चित  से संतुष्ट  होकर  वह  अपने  अगले  जन्म  की  ओर   बढ़  जाता  है ...किसी  अंडाशय  में डिम्ब  की  ओर   निषेचन  पूर्व  दौड़ते  शुक्राणु  की  भांति ...
     बहुत  दिन  हो  गए  थे,  इसलिए  अब  भारतीय  मेहमान  वापस  भी  लौटना  चाहते  थे। तय  हुआ  कि   अगले  दिन  शाम  को  वे  लोग  वापस  न्यूयॉर्क  के  लिए  प्रस्थान  कर  जायेंगे।  बच्चे  अब  पूरी  तरह  स्वस्थ थे। उनके  आश्चर्य  का  पारावार   न  रहा  जब   उन्होंने उन्होंने  नाना  के  साथ  घर  के  बाहर  पेड़  पर  लगे  घोंसले  को  देखा।  सचमुच  किसी    जादू से उस  घोंसले  में  छोटे प्यारे-प्यारे तीन  अंडे  आ  गए  थे। अण्डों  ने मानो  बच्चों  की  निगाह  में  नाना  की सारी  कहानी  को  विश्वसनीय  बना  दिया  था।  
     अगले  दिन  शनिवार  था।  दोपहर  तक  नाना की  वे  दोनों  नातिनें  भी  आ  जाने  वाली  थीं।  वे  ही  तो  उस  परिवार  को  वहां  लाई   थीं, बच्चे  उनसे  मिले  बिना  और  उन्हें  धन्यवाद  दिए  बिना  भला  कैसे  जा  सकते  थे? फिर  उन्हें  अगले  साल  भारत  आने  के  लिए  भी  तो  निमंत्रित  करना  था। बच्चों  की  मम्मी  रसोई  में  व्यस्त  हो  गईं,  और  बच्चे दोनों  दीदियों  का बेसब्री  से  इंतज़ार  करते  हुए  खेलने  के  लिए  बाहर  लॉन  में  आ  गए। बच्चों  ने  एक  पुरानी  झाड़ी  के  पीछे  से  ढूंढ  कर  लकड़ी  के  दो  पट्टे   उठा  लिए,  जिन्हें  वे  खेलने  के  लिए बैट  बना सकें।  
     अचानक  एक  कार  आकर  रुकी,  उसमें  से  दोनों  लड़कियां  उतरीं  और  बच्चों  से  लिपट  गईं. चहचहा कर  बच्चे  भीतर  की  और  दौड़े,  मम्मी-पापा  को  दीदी  के आने  की  खबर  देने  के  लिए।  लेकिन  बच्चों का  ध्यान  तभी  अपने  हाथ  में  पकड़ी  लकड़ी  की  पट्टियों   पर  गया। उन  पर  लिखा  था-  सना रोज़  और  सिल्वा  रोज़ ...
     बच्चे  एकसाथ  चिल्ला  पड़े-  " नाना  किन्जान  हैं...नाना  किन्जान  हैं ...
     उधर  मम्मी ने  सूप  की प्लेट आराम-कुर्सी  पर  बैठे  नाना  की  ओर  बढाई  तो  प्लेट  हाथ  में  ही  रह  गई,  क्योंकि  नाना  का  चेहरा  एक ओर  निढाल  होकर  लुढ़क  गया।  
     सना  और  सिल्वा  समझ  नहीं पाई   कि   पहले  नाना  को  सम्भालें ,  या  पहले  बच्चों  को ...जो  गश  खाकर  गिरने  लगे  थे...वे प्यारे-प्यारे  बच्चे,  जिन्हें किसी  आत्मा  के  प्रभाव  से बचाने  के  लिए  वे  नाना  के  पास  छोड़  गईं थीं।    [ समाप्त  ]          

सूखी धूप में भीगा रजतपट [भाग 64]

     नदी  के  किनारे  बहुत सारे लोग  जमा  थे, जिससे  नगर  से  काफी  दूर  का  यह  इलाका  भी  लोगों  के  पैदा  किये  गए  कोलाहल  से  किसी  घनी  बस्ती  सा  लग  रहा  था।  किनारे  को  पुलिस  की  गाड़ियों ने  पूरी  तरह  से  घेर  लिया  था। किसी  को  नज़दीक  नहीं  जाने  दिया  जा  रहा  था।  अब  तक  कोई  शव  नहीं  मिला  था,  लेकिन  गोताखोरों  की  पूरी  टीम  जी-जान  से  इसमें  लगी  हुई  थी। पानी  के  बहाव  के  विपरीत  जाते   हुए   उस  छोटे  जहाज  का  कोई  चिन्ह  पानी  की  सतह  के  ऊपर   दिखाई नहीं  दे रहा  था।  पुलिस  अधिकारियों   के  लिए  भी  यह  मामला  पेचीदा  बन  गया  था,  क्योंकि  बिना  किसी  मानवीय  भूल  के  ऐसा  हादसा  होना  कतई   संभव  नहीं  था। कुछ एक  प्रत्यक्ष-दर्शियों  का  कहना  था,  कि   शायद  शिप  में  किसी  नौका-अभियान  दल  के  सदस्य  थे,  क्योंकि  शिप  की  रफ़्तार  और इसमें  बैठे  लोगों  के अन्य  साहसिक  कारनामों  के  चलते इस  जल-यान  ने  सभी  का  ध्यान  आकर्षित  किया  था। शिप  में  लगभग  आधा  दर्ज़न  लोगों  के  होने  का  अनुमान  लगाया  जा  रहा  था,  जिनमें  कुछ महिलाएं भी थीं। 
     लगभग  ढाई-घंटे  की  मशक्कत  के  बाद  गोताखोरों  ने  तेज़  धार  से  जो  पहला  शव  खोज  निकाला,  वह  किसी  चीनी  प्रौढ़  व्यक्ति  का  दिखाई  देता  था। इससे  बाकी   के शव  भी  जल्दी  ही  मिल  जाने  की  सम्भावना  बलवती  हो  गई  थी। एक  शव  के  सहारे  दल  के  लोगों  की  पहचान  होना  भी  सुगम  हो  गया  था।  
     बफलो में  जिस  जगह  से  वह  शिप  लिया  गया  था,  वहां  से  यह  आसानी  से  पता  चल  गया कि   यह वही   बदनसीब  लोग  थे,  जो  किन्जान  के  घर  उसके  मेहमान  बन  कर  ठहरे  हुए  थे।  और  उन्हीं  तीनों  चाइनीज़ मेहमानों  के  साथ-साथ दुस्साहसी  पेरिना  और  डेला  की  जिंदगी  भी  स्वाहा   हो  गई. 
     इस  खबर  के  घर  पहुँचते  ही  कोहराम  मच  गया।  सना  और  सिल्वा  रोते-बिलखते  हुए  भी  यह  नहीं  भूल  सकीं,  कि   उनके  जिद  करने  के  बावजूद  भी  किन्जान  ने  उन्हें  जाने  की  अनुमति  नहीं  दी थी।  वही  भेंट  में  मिली  जिंदगी पूरी  ताकत  से  लेकर  वे  दोनों  किन्जान  के  साथ  बदहवास  सी  दुर्घटना-स्थल  की  ओर दौडीं .  
     अगली  सुबह  सफ़ेद  वस्त्रों  में  शांति  से  एक  चर्च  में  खड़ी  सना  और  सिल्वा  एक  साथ  बार-बार  मन  ही  मन  उस  दृश्य  को  याद  कर  रही  थीं,  जब  वे  नदी  किनारे  दुर्घटना  स्थल  पर  पहुँचीं  थीं।  उनके  ज़ेहन  में  यह  ख्याल  भी  एक  साथ,  मगर  बार-बार आ रहा  था,  कि  सारे  माहौल  में  किन्जान  क्यों  बार-बार  पुलिस  से  बचने  की  कोशिश  करता  रहा। इतना ही  नहीं,  शिप  जहाँ  से  लिया  गया  था,  वहां  के  कर्मचारियों  ने  भी   बार-बार  ऐसा  संदेह  जताया  था  कि   यह  एक  स्वाभाविक  दुर्घटना  नहीं  है।  लेकिन  कोई  नहीं  था  जो  स्याह  को  सफ़ेद  और  सफ़ेद  को  स्याह  होने  से  रोके।  एक  मशीन  विफल  करार  देकर  जल-समाधि  में  छोड़  दी  गई  थी,  कुछ  इंसान  अपने-अपने  भाग्य  का  नाम  देकर  बहते  पानी  में  मिला  दिए  गए  थे। तेज़ी  से  बहता  पानी  "बीती  ताहि  बिसार  दे"  गुनगुनाता न  जाने  कहाँ  तक  चला  गया  था,  जो  कुछ  बच  गया,  वही   संसार  था।  फिर  चल  निकला...[ जारी ...]          

Thursday, May 10, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ भाग 63]

     घर  में इतनी  वैचारिक  उथल-पुथल  होती,  और  इसका  अहसास  तक  मेहमानों  को  न  होता,  ऐसा  कैसे  हो  सकता  था।  विद्रोह  और  असहमति  की  हवा  वैसे  भी  नुकीली  तासीर  वाली  होती  है,  मिस्टर  हो,  चुम और  युवान  को  भी  अपने  मेज़बान-खाने  में  दाल  में  काला  नज़र   आने लगा।  
      उनकी खुसर-पुसर  भांप  कर   जब  डेला और  पेरिना   उनके  कमरे  में  पहुँचीं,  तो  वे  गंभीर  होकर  वहां  से   किसी होटल  में  शिफ्ट  करने  की  बात  कर  रहे  थे।  पेरिना  ने  माहौल  को  हल्का  और  विश्वसनीय  बनाने  के  लिए  उन  लोगों  को  आत्मीयता  से  निश्चिन्त  रहने  के  लिए  कहा,  और  साथ  ही  सबका  मूड   बदलने के  लिए  अगले  दिन  पिकनिक  का  कार्यक्रम  भी  बना  लिया।  मेहमानों  के  माथे  से  संदेह  की  लकीरें  वापस  धुंधला  गईं।  
     तय  किया  गया  कि  वे  लोग  अगली  सुबह  हडसन  नदी  में  सैर  के  लिए  जायेंगे। एक  शिप  द्वारा  नदी  में  लम्बी  यात्रा  के  काल्पनिक  आनंद  ने  सबका  जी हल्का  कर  दिया।  किसी  वेगवती  नदी  के  उलटे  बहाव  में  लम्बी  दूरी  तय  करने  का  अनुभव  भी  चुनौती-पूर्ण  होता  है,  उसी  की  तैय्यारियाँ  शुरू  हो  गईं।  
     सुबह  सबसे  आश्चर्यजनक  बात  तो यह  हुई कि  किन्जान  ने  सना  और  सिल्वा  को  उन  लोगों  के  साथ  जाने  की  अनुमति  नहीं  दी।  वे  दोनों  एकाएक  समझ  नहीं सकीं कि   इस  पाबन्दी  का  क्या  अर्थ  है।  किन्जान  से  तो  साथ  चलने  के  लिए  वैसे  भी  कहा  ही  नहीं  गया  था,  क्योंकि  पेरिना   और  डेला  ,  दोनों  ही  भली  भांति  समझ  चुकीं  थीं,  कि   किन्जान  को  मेहमानों  का  साथ  रास  नहीं  आने  वाला, और  मेहमान  भी  उसकी  उपस्थिति  में  सहज  नहीं  रहने  वाले। 
     डेला   ने  उनके  मिशन  के  अवश्य  जारी  रहने  का  ऐलान  करके  जो  आग  लगाईं  थी,  पेरिना   ने  साथ  चलने  की  दृढ  घोषणा  करके  उस  आग  में  घी  डालने  का   काम  ही  किया  था। इससे  किन्जान  अलग-थलग  और  उपेक्षित  महसूस  कर  रहा  था।  लेकिन  यह  किसी  ने  नहीं  सोचा  था,  कि   इसका  बदला  वह  सना  और  सिल्वा  को  रोक  कर  बचकाने  तरीके  से  लेगा।  उसके  इस  निर्णय  से  युवान  का  चेहरा   भी उतर  गया  था,  लेकिन  वह  माहौल  की  गंभीरता  को  देख  कर  यह  भी नहीं  कह पा   रहा था,कि   सना  और  सिल्वा  के  न  जाने  की   स्थिति में  वह  भी  उन  लोगों  के  साथ  नहीं  जाना  चाहेगा। 'युवावस्था '   भी  एक  जाति   होती है,  और  इस  बिना  पर  युवान  सना  और  सिल्वा  को  करीबी  पाता   था। 
     डेला   ने  एक  बार  किन्जान  की  उपेक्षा   करते हुए  सना  और  सिल्वा  को  चलने  का  आदेश  दे  डाला।  उसे  यकीन  था  कि    इससे किन्जान  अपना  क्रोध  भूल  कर डेला   का   दिल  रखते  हुए  अपनी  बचकानी  जिद  छोड़  देगा,  और  बच्चियों  को  जाने  की  अनुमति  दे  देगा।  बच्चियां  खुद  भी  अपने  सम्बन्ध  में  निर्णय  औरों  द्वारा  लिए  जाने  पर  अपमानित  महसूस  तो  कर  ही  रही  थीं,  मगर  किन्जान  के  गंभीर  क्रोध  को  भांप  कर  कुछ  तय  नहीं  कर  पा  रही  थीं।  उन्हें  मेहमानों  के  सामने  कोई  कटु-प्रदर्शन  न  हो  जाने  की  चिंता  भी  थी।  लेकिन  शायद  यह  चिंता  उनकी  माँ  डेला  को  नहीं  थी...[जारी ...]    

Wednesday, May 9, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [भाग 62]

     घर  का  वातावरण  जैसे  बुझ  सा  गया। डेला   समझ  नहीं पा  रही  थी,  कि  मेहमानों  को  क्या  कह  कर,  और  कैसे  रोके?  जिस  बात  के  लिए  वह  खुद  इतने  समय  से  सबके  पीछे  पड़ी  थी,  और  जिसे  अपनी  जिंदगी  का  मिशन  बताती  थी,  अब  भला  कैसे  उससे  अपने  कदम  पीछे  खींचे?  उसके  मेहमान  क्या  सोचेंगे।  क्या  अमेरिकी  जुनून  और  आयोजना  यही  है!
     किन्जान  ने  अपने  मन  की  बात  चाहे  जिस  तरह  कही  हो,  लेकिन  वह  भी  आखिर  अनुभवी  बुज़ुर्ग  हो  चला  था।  उसे  यह  लगातार  चिंता  थी  कि  उसके  कारण  डेला  अपनी  मित्र  मण्डली  में किसी  भी  तरह  नीचा  न  देखे।  यह  ज़रूरी  था  कि   उसे  समझदारी  से  इस  दुविधा  से  निकालना  था।
      एक  रात  सबके  सो  जाने  के  बाद  किन्जान  ने  बेहद  आत्मीयता  से  डेला   को  अपने  पास  बुला  कर  समझाया  कि वह  इस  मिशन  को  किसी  जलन  या  ईर्ष्या  की  भावना  से  रद्द  नहीं  करवाना  चाहता,  बल्कि  उसने  तो  बहुत  व्यापक  स्तर   पर  इस  बारे  में  सोचा  है,  कि यह  मिशन  उनके  देश के  लिए  भी  गौरव-पूर्ण  नहीं  है।  किसी  और  देश  के  लोग  हमारी  मदद  से  यहाँ  आकर , हमारे  मेहमान  बन  कर  उस  कारनामे  को  अंजाम दें ,  जो  बरसों  से  हमारे  देश  के  भी  कई  लोगों  का  सपना  रहा  है,  तो  यह  ठीक  नहीं  है। 
     लेकिन  डैडी ,  यह  किसी  देश  की  सफलता  का  सवाल  नहीं  है,  यह  तो  प्रकृति  पर  इंसान  की  जीत  दर्ज  करने  का  प्रयास  है,  और  इंसान  कहाँ  पैदा  हुआ,  और  उसकी  परवरिश  कहाँ  हुई  , यह कहाँ  महत्त्व-पूर्ण  है?  डेला   ने  बहुत  बुनियादी  सवाल  उठाया।  वह  बोली-  आप  ही  तो  कहते  थे  कि   मेरी  दादी  भारत  में  पैदा  होकर  अरब  में  आई,  फिर  सोमालिया  में  शादी  करके  अमेरिका  में  रही।  ऐसे  में  उसकी  किसी  भी  उपलब्धि  से  कौन  सा  देश  गौरवान्वित  होगा? फिर  सब  देशों  के  सब  लोग  एक  सी  मानसिकता  वाले  भी  कहाँ  हैं ? एक  ही  देश  के  एक  आदमी  के  काम  से  उसी  देश  के दूसरे आदमी  का  सर झुक  भी  जाता  है,  और  गर्व  से  उठ  भी  जाता  है।  राष्ट्रीयता   अल्टीमेट नहीं  है।   अंतिम  केवल  इंसानियत  है। 
     बच्चे  कितनी  ज़ल्दी  बड़े  हो  जाते  हैं,  ज्यादा  समझदार  भी,  किन्जान  सोच  रहा  था।  लेकिन   उसका मन  अब  भी  इस  बात  के  लिए  तैयार  नहीं  था,  कि   चीन  से  आया  दल  इस  महा-मुहिम   को  पूरा  करे।  उसे     लगता था कि  डेला   के  उन  लोगों  के  साथ  होने  पर  भी  इस  सफलता  का  सारा  श्रेय  चीनी  सदस्यों  को  ही   मिलेगा,  क्योंकि  डेला   वैसे  भी  वहां  नौकरी  कर  रही  है,  और  वहीँ  से  इन  लोगों  के  साथ,  इसी  अभियान  के  लिए  आई  है।
     रात  को  काफी  देर  तक  किन्जान  और  डेला   के  बीच  विवाद-विमर्श  चलता  रहा। डेला  भी  कमोवेश  अपनी  बात  पर  कायम  थी,  और  किन्जान  भी  अपने  अड़ियल  रुख  से  डिगा  नहीं  था। 
     लेकिन  जैसे  कभी-कभी हम  किसी  पंछी को  पुचकारने  के  लिए उसके  बदन  पर  प्यार  से  हाथ  फेरते  हैं,  और वह  बदले  में  पलट  कर  हमें  चौंच मार  देता है, ठीक  वैसे  ही  अगली  सुबह  ने  किन्जान  को  जैसे  काट  लिया। अगली सुबह  पेरिना  ने  भी  सार्वजानिक  घोषणा  कर  डाली  कि   वह  भी  उन  लोगों  के  साथ  इस  साहसिक  अभियान  पर  जाएगी...[ जारी ...]            

Tuesday, May 8, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [भाग 61]

     - डैडी ,  ये  क्या  बचपना  है? अपने  पिता  किन्जान  को  बच्चों  की  तरह  डांटते  हुए  डेला  ने  उस  कमरे  में  कदम  रखा,  जहाँ  हाथ  में  पट्टी  बांधे  बच्चों  की  सी  निरीहता  से  किन्जान  एक  नर्सिंग-होम  के  बिस्तर  पर  बैठा  था।  नज़दीक  ही  पेरिना  खड़ी   थी,  जिससे  डेला   को  यह  खबर  मिली  थी,  कि  सुबह  बहस  करते  हुए  किन्जान  ने  किसी  बात  पर  नाराज़  होकर  अपनी  कलाई  ब्लेड  से  काट  डाली।  बहुत  खून  बह  गया,  सभी  लोग  कहीं  बाहर  गए  हुए  थे,  इसलिए  झटपट  पेरिना   ही  किन्जान  को  यहाँ  लाई । 
     थोड़ी  ही  देर  में  खबर  मिलते  ही  सना , सिल्वा  और  युवान  भी  वहां  दौड़े  चले  आए. सब  को  हैरानी  हो  रही  थी  कि   यह  सब  क्या  किसी  दुर्घटना-वश  हुआ  या  फिर...आखिर  ऐसी  क्या  बात  हुई  कि   किन्जान  और  पेरिना    के  बीच  ऐसा  झगडा  हो  गया?  क्या  ऐसा  पहले  भी  कभी  हुआ  है,  डेला   ने  बेटियों  से  जानना  चाहा , जो  खुद  भी  इस अप्रत्याशित  घटना-क्रम  से  अचंभित  थीं। 
     थोड़ी  देर  में  तीनों  बच्चे  चले  गए,  तब  पेरिना   ने  डेला  को  बताया, कि किन्जान  नायग्रा-फाल्स  को  पार  करने  के  उन  लोगों  के  अभियान  से  बिलकुल  भी  खुश  नहीं  हैं।  खुश  होना  तो  दूर,  वे  इसे  बर्दाश्त  तक  नहीं  कर  पा  रहे  हैं।  वे  दबी  जुबान  से  यहाँ  तक  कह  चुके  हैं,  कि   यदि  इन  लोगों  ने  यह  ख्याल  नहीं  छोड़ा  तो  वे  घर  छोड़  कर  चले  जायेंगे।  वे  चीनी  मेहमानों  को  भी  तुरंत  उनके  देश  वापस  भेज  देना  चाहते  हैं।  
     डेला   के  लिए  यह  बात  अचानक  किसी  बम  के  फटने  जैसी  थी।  वह  अवाक्  रह  गई।  उसने  क्या  सोचा  था,  और  क्या  हो  गया। वह  फूट-फूट कर  रो  पड़ी।  उसकी  हिचकियाँ  बंध   गईं। किन्जान  दीवार  की  ओर   मुंह  छिपा  कर  चुपचाप  बिस्तर  पर  लेट  गया।  डेला पेरिना   को  इंगित  कर  के  कहती  चली  गई, कि   उसने  जब  से  होश  संभाला  है,  डैडी  को  अपना  सपना  पूरा  न  कर  पाने  के  लिए  हताश  और  मायूस  ही  देखा  है।  वह  चाहे  जहाँ  रही,  उसके  मन  से  यह  बात  कभी  नहीं  निकली  कि डैडी  अपनी  असफलता  के  कारण    अपने  जीवन  को कभी  सुख  से  नहीं  जी  सके।  वह  भी  अकेले  में  रातों  को  जगी  है,  और  यह  सोचती  रही  है  कि   किस  तरह  अपने  पिता  की  मदद  करे,  और  उनके  अधूरे  ख्वाब  को  पूरा  करे। लोग  तो   कहते हैं  कि   यदि  औलाद  अपने  माता-पिता  के  अधूरे  काम  पूरे  करे  तो  लोग  गर्व  से  फूले  नहीं  समाते।  लेकिन  यहाँ  तो  सारी   बात  ही  उलट  गई..डेला  का  दर्दनाक  क्रंदन  फिर  शुरू  हो  गया। 
     आवाज़  सुन  कर  एक  नर्स  भीतर  चली आई ,  और  उसने  डेला   को  संभाला। पेरिना   भी  सुबकने  लगी  थी। लेकिन  नर्स  के  बाहर  निकलते   ही  डेला  फिर  से  फट  पड़ी- " मुझे  जब  यह  पता चला  था  कि   ये  लोग,  जिनके  साथ  मैं  अब  काम  कर  रही  हूँ,  डैडी  के  अभियान  को  पूरा  करने  में  मेरे  लिए  मददगार  हो  सकते  हैं, तो  मैंने  वुडन  को  इनकी  कम्पनी  में  काम  करने  के  लिए  मुश्किल  से  मनाया  था,  और  वे  बेमन  से  हमारा  साथ  देने  के  लिए  तैयार  हुए  थे। मैंने  खुद  सारी   तैय्यारी  चुपचाप  की  थी,  कि   मैं  सही  समय  पर  डैडी को  यह  खुश-खबरी  देकर खुश  कर  दूँगी,  ...लेकिन  मुझे  यह  नहीं,  पता था  कि   बेटी  को  इतना  भी    हक़ नहीं है... "  डेला   के  न  आंसू  थमते  थे,  और  न  आवाज़,  मानो  कोई  जल-प्रपात  नैनों  की राह  पा गया  था।  [जारी...]
            

Monday, May 7, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ भाग 60]

     किन्जान  ने जब  सुना  कि  मिस्टर हो और  चुम  कुछ  समय  के  लिए  ग्रोवसिटी  के  पास  उस  आश्रम  के  अवशेष  देखने  के  लिए  भी  जा  रहे  हैं,  जो  कुछ  साल  पहले  तहस-नहस  हो  गया  था,  तो  उसे  अचम्भा  हुआ।  इससे  भी  बड़ी  बात  तो  ये  थी  कि  वे  दोनों  चीनी  मेहमान  उस  आश्रम  के  बारे  में  कुछ  दस्तावेजी  जानकारी  भी  रखते  थे।  
     युवान  को  तो  सना  और  सिल्वा  की  कम्पनी  में  दीन -दुनिया  की  खबर  ही  न  रही।  सैर  का  असली  मज़ा  तो  वे  लोग  ले  रहे  थे।  
     कुछ  दिन  मेहमान  लोग  बाहर  रहे ,  लेकिन  जब  लौटे  तो  सरगर्मियां  बढ़  गईं  थीं।  पेरिना   और  डेला   ने  भी  शायद  भांप  लिया  था  कि   किन्जान  को  मेहमानों  का  साथ  ज्यादा  नहीं  भा  रहा  है,  और  वे  लोग  आपस  में  बात  करने  से  बचते  हैं।  वे  भी  इस  तरह  कार्यक्रम  बनातीं,  कि   किन्जान  को  अपनी  सुविधानुसार  उनसे  अलग  रह  पाने  का  अवसर  मिले।  कई  बार  मिस्टर  हो  और  किन्जान  के  बीच  आपसी  बात-चीत  में  तनाव  बढ़ता  घर  में  सभी  लोगों  ने  महसूस  किया  था।  
     और  तभी  एक दिन  डेला  ने  धमाका  किया। उसने  बताया  कि   मिस्टर  हो  के  देश  से  एक  दल  वहां  आ  चुका   है,  जो  जल्दी  ही  विशेष  नाव  से  अमेरिका  के  विश्व-प्रसिद्द  जल-प्रपात  नायग्रा  फाल्स  को  पार  करेगा। इस  खबर  ने  जहाँ  घर  में  सभी  को  एक  उत्साह  से  भर  दिया,  वहीँ  किन्जान  पर  मानो    एकाएक  कोई  गाज   गिरी. किन्जान  न  केवल  अनमना  सा  हो  गया ,  बल्कि  उसके  भीतर  कहीं  कोई  भूचाल  सा  आ गया। इस  खबर  को  सुनने  के  बाद  से  ही  वह  पागलों  जैसा  अजीबो-गरीब  व्यवहार  करने  लगा।  
     घर  में   केवल  एक  पेरिना   ही  थी,  जो  किन्जान  की  मनोदशा  का  थोडा  बहुत  अंदाज़  लगा  पा  रही  थी।  लेकिन  उसे  भी  यह  आभास  नहीं  था  कि   किन्जान  के  मन  में  अपने  असफल  अभियान  की  इतनी  बड़ी  हताशा  पल  रही  है।  वह  वर्षों  गुजर  जाने  के  बाद  भी  अपने  सपने  को  बिसरा  नहीं  पाया  है।  
     उधर  डेला   तो  किन्जान  की  मानसिक  स्थिति  से  बिलकुल  अनजान  थी।  उसे  ये  सपने  में  भी  गुमान  नहीं  था,  कि  उसके  पिता  इस  हद  तक  अपनी  अभिलाषा  पर  अपना  एकाधिकार  समझे  बैठे  हैं,  कि  दो  पीढियां  गुजर  जाने  के  बाद  भी  उन्हें  अपने  सपने  का  किसी  और  के  द्वारा  पूरा  किया  जाना  बुरा  लग  रहा  है। डेला    इस  विचित्र  स्थिति  को  बिलकुल  नहीं  समझ  पा   रही  थी।  वह  तरह - तरह से  अपने  पिता    किन्जान  को  अपने  मेहमानों  की    मुहिम   के  बारे  में  बता  कर  उनके  चित्त  को  स्थिर  करने  की  कोशिश  कर  रही  थी। उसे  लगता  था,  कि   उसके  पिता  अपनी  युवावस्था  में  खिलाड़ी  और  सैनिक  रहे  हैं,  अतः  वे  इस  साहस-भरे  कारनामे  को  सही  परिप्रेक्ष्य  में  लेकर  खुश  होंगे,  और  उन्हें  उत्साहित  करके  उनकी  मदद  ही  करेंगे।  लेकिन  उसके  लिए  यह  समझना  कठिन  था  कि   उसके  पिता  को  उनका  अभियान  रुच  क्यों  नहीं  रहा। डेला  सोच  में  पड़   जाती,  और  मन  ही  मन  अपने  पिता  को  किसी  तरह  खुश  रखने  का  जतन  करती...[ जारी...]      

Sunday, May 6, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ भाग 59]

     रात के  खाने,  कॉफ़ी और  गप्प-गोष्ठी के  बाद  जब  मेहमान  लोग  सोने  के  लिए  चले  गए,  किन्जान  और  पेरिना  अपने  कमरे  में  आये,  तो  दोनों ही  कुछ  बेचैन  से  थे।  लेकिन  यह  कोई  नहीं  जानता   था  कि  दोनों  की  बेचैनी  अलग-अलग  बातों   को  लेकर  थी।  
     किन्जान  पिछले  कुछ दिनों  से अपने  मेहमानों  से  आश्वस्त  सा  नहीं  था।  शुरू  के  दिन  तो  इसी  उन्माद  में  कट  गए  कि   वे  लोग  वुडन  और  डेला   के  साथ आए  ,  उनकी  कंपनी  के  लोग  हैं,  और  इसी  नाते  उनके  मेहमान  भी  हैं,  लेकिन  धीरे-धीरे  उनसे  खुलते  जाने  के  साथ  किन्जान  को  उन  पर  कुछ  संदेह  सा  होने  लगा  था।  उसे  उनकी  बातों  में  दंभ  की बू भी  आती  थी।  कुछ  ईर्ष्या  भी  होती  थी,  तथा शक  भी  होता  था।  उसे  लगता  था  कि   वे  लोग  किन्जान  को  नुक्सान  पहुंचाएंगे।  वे  धीरे-धीरे  किन्जान  को   अपनी बातों  से  छोटा  और  उपेक्षित  करते  जाते  थे। सबसे  ज्यादा असहनीय  तो  ये  था  कि   खुद  किन्जान  की  बेटी  उन लोगों  का  साथ  देती  थी।  डेला  को  उनसे  आत्मीयता  से  जुड़ा देखना  किन्जान  को  सुकून  नहीं  देता  था। वुडन  एक  तटस्थ  तबियत  का  आत्म-केन्द्रित  इंसान  था,  जिसे  इस  बात  से  कोई  फर्क  नहीं  पड़ता  था  कि   डेला  उत्साह  के  साथ  चीनी  मित्रों  की योजनाओं  में  शामिल  थी,  और  बातचीत  में  उनका  पक्ष  लेती  थी। 
     आरम्भ  में  युवान  में  सना या  सिल्वा  में से  एक  का  जीवन-साथी  देखने  की  बात  भी  किन्जान  के  मन  से  दरकने  लगी  थी। यद्यपि  भविष्य के  गर्भ  में  क्या लिखा  था,  यह  कोई  नहीं जानता था। फिर  किन्जान  को  यह  भी  पता  था  कि   युवान  को  डेला  भी  पसंद  करती  थी।
     उधर  पेरिना  अपनी  अलग  ही  उधेड़-बुन  में  थी। उसे  यह  सालता  था  कि  आत्माएं हमेशा  स्त्रियों  की ही  क्यों  भटकती  हैं? उसने  कभी  नहीं  सुना  था  कि   कोई  लड़का  या  आदमी  मर  कर  भटक  रहा  हो,  ज़्यादातर  लड़कियों  की  आत्माएं  ही  अतृप्त देखी जाती  थीं। तृप्ति  कौन  बांटता  है,  उसके  क्या  मानदंड  हैं,  वह  किसे  पूरा  जीवन  देता  है,  किसे  अधूरा, यह  अगर  किसी   किताब  में  लिखा  होता  तो  पेरिना  सारी  रात  जाग  कर  उसे  पढ़ती।  लेकिन  फिलहाल  ऐसी  कोई  किताब  नहीं  थी,  और  इसलिए पेरिना  का  ध्यान  इस  बात  पर  चला गया  कि  वह  सुबह  नाश्ते  में  मेहमानों  को  क्या  परोसेगी? 
     उसने  किन्जान  को  यह  भी  बताया  कि   डेला  ही नहीं,  बल्कि  मेहमानों  को भी  उनके  नए  कमरे  काफी  आकर्षक  और  आरामदेह  लगते  हैं,  जिनके  लिए  वे  किन्जान  की  तारीफ  करते  नहीं  थकते।  सना और  सिल्वा  भी  मेहमानों  से  बहुत  प्रभावित  हैं,  और  उनके  देश  में  घूमने जाने के  लिए  लालायित  हैं।  और  तब  किन्जान  को  लगता  कि   कहीं  उसने  अतिथियों  के  बारे  में  अपनी  धारणा ज़ल्दबाज़ी  में  तो  नहीं  बना डाली है।  
     अगली सुबह  बगीचे  में  चाय  पीते  हुए  जब  मिस्टर  हो  ने  किन्जान  को  अपने  साथ  चाइना  चलने  का  निमंत्रण  दिया तो  किन्जान  अभिभूत  हो  गया। यह  औपचारिकता  समय  से  काफी  पहले  अभिव्यक्त  हो  गई  है,  यह  किन्जान  को  भी  पता  था,  और  हो  को  भी...[ जारी ...]         

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ भाग 58]

     कुछ  ही  दिनों  में डेला  और  उसकी  मित्र-मण्डली  ने  बफलो  का कोना-कोना  छान  मारा.  शहर  के  कई  स्थानों  की  आकर्षक  फोटोग्राफी  कर  के  मेहमानों  ने  अपनी  यात्रा  की स्मृतियों  को  सजाने  का  भी  अच्छा  बंदोबस्त  कर  लिया. किन्जान  और  पेरिना  ने  उन्हें  एक  दिन  अपने  हनीमून-  ट्रिप  पर  की  गई  आश्रम  की यात्रा  के  बारे  में भी  बताया.  वर्षों  पहले  ज़लज़ले  में   नेस्तनाबूद हुए  आश्रम  की  दिलचस्प  कहानी और  बाद  में  संयोगवश  मिली  डायरी   के  बारे  में डेला  उन्हें  पहले  भी  बता  चुकी  थी।  
     एक  शाम  जब वे लोग  डिनर  के  बाद रंगीन  झिलमिलाते  झरने  के  किनारे  बगीचे  में  बैठे  ताजगी  भरे  आलम  का  आनंद  ले  रहे  थे,  इस  बात  पर  अच्छी -खासी  बहस  ही  छिड़  गई  कि   क्या  मृत्यु  के  बाद  किसी  भी  व्यक्ति  का  वापस  दुनिया  में आकर   आत्मा के  रूप  में  भटकना  कोई  हकीकत  हो  सकती  है  या  फिर  यह  दिमागी  फितूर,  भ्रम,  मनोरंजन  मात्र  ही  है।  किन्जान  ने  इस  प्रश्न  पर  लगभग  मौन  ही  रखा।  लेकिन उसे  यह जान कर बेहद आश्चर्य  हुआ  कि  उनके  मेहमानों  के  तरकश  में  भी  ऐसे  अनुभवों  के  कई  तीर  हैं,  जब  किसी  ने  मृत  व्यक्ति  की  उपस्थिति  को  किसी  न  किसी  रूप  में  अनुभव  किया। 
     चुम  ने  बताया कि  उसकी तो  कई  बार  विपत्ति  के  क्षणों  में  ऐसी  आत्माओं  ने  मदद  की  है। उसका  कहना था कि  ये  आत्माएं केवल  अच्छी वृत्तियाँ  ही  होती  हैं,  और  ये  लोगों  की  मदद  ही  करती  हैं।  ये प्राय बड़े  और  महान  लोग  ही  होते  हैं  जो  दुनियां  से  जाने  के  बाद  भी  दुनियां  में  दखल  देने  की  शक्ति  रखते  हैं। उसे  ऐसा  कोई  अनुभव  नहीं  था,  जब  किसी  असहाय  या  पीड़ित  व्यक्ति  को  मरने  के  बाद  दुनियां  में  घूमते   देखा  गया हो. 
     युवान  की  इस  बात  ने  सबको  चौंका  दिया  कि  उसे  तैराकी  के कठिन  दिनों  में  कई  बार  पारलौकिक  शक्तियों  द्वारा  सहायता किये  जाने  का  अहसास  हुआ  है। सना और  सिल्वा  की दिलचस्पी  इन  बातों  को  सुनने  तक  सीमित  थी,  उनके  पास  कहने  के  लिए  कुछ नहीं था। और  सबसे  बड़ा  अचम्भा  तो  सभी  को  यह  जान  कर  हुआ  कि  इस  पूरी बातचीत  के  दौरान  वुडन  पास के  लॉन पर  गहरी नींद  में  सोते  पाए  गए,  और  उन्होंने  किसी  की बात  का  एक  लफ्ज़  भी  नहीं सुना। 
     युवान  ने  दिलचस्प  वाकया  सुनाया।  वह  तब  केवल  चौदह साल  का  था, जब  एक  गहरी  जंगली  नहर में  तैरते हुए  वह  पानी में काई-भरी झाड़ियों  में फंस  गया,  और  बहुत  देर  चिल्लाने  के  बाद  भी  उसे  किसी  तरह  की  कोई  मदद  नहीं  मिली। तभी  मटमैले  पानी में उसने  एक  बड़ी  सी  मछली  को  अपनी  ओर  आते  देखा। नुकीली दन्त-पंक्ति और  काँटों से भरी  देह वाली  इस  खूंखार  मछली को  अपनी ओर   आते  देख  युवान  की चीख  ही निकल  गई,  लेकिन  युवान  ने  साफ  देखा  कि  यह  मछली  अपने  काँटों  से झाड़ियों  को  सुलझाती  हुई  युवान  का  रास्ता  बना  कर  इस  तरह  निकल गई  कि  उसके  शरीर  को  एक  खरोंच  तक  नहीं  आई। बाद में  उसके  मित्रों  ने  कहा  कि  वह  झाड़ियों  को  खाने  वाली  कोई  शाकाहारी  मछली  हो  सकती  है,  किन्तु  युवान  का  दिल  जानता  था  कि भय  से  मरणासन्न अवस्था  में  आ  जाने  वाले क्षणों  में  मछली  उसे  देव-दूत  की  भांति  नज़र  आती   रही ...धीरे से  युवान  ने  यह  भी  बताया कि   उस  मछली  की आँख  का  अक्स  आज  तक  उसके दिमाग  में  दर्ज  है।..[जारी...]            

Saturday, May 5, 2012

सूखी धूप में भीगा रजतपट [ भाग 57]

     न्यूयॉर्क   के  विमानतल  पर  जब  वुडन ,  डेला  और  उनके तीन  चाइनीज़  मित्र  उतरे  तो सना  और  सिल्वा  फ़ुल झड़ियों  की  तरह  चटकने लगीं।  शायद  वो मौसम  के  सबसे  खुशगवार   फूल  थे,  जिनके  गुलदस्ते  दोनों  ने  मेहमानों  को  भेंट  किये।  दोनों  लड़कियों  की  आँखों  ने  टकटकी  लगा कर  उस  सुदर्शन पुरुष  को  देखा,  जो  उनका पिता था। मां  की  उपस्थिति  को  तो  जैसे  वे  अंजुरी में  भर कर पी ही  गईं।
     कुछ  देर  बाद  सिल्वा  उस  शानदार  कार  के  स्टीयरिंग  पर थी,  जो  सब  को  लेकर  बफलो  की ओर  दौड़ रही थी।  साठ   बरस  के हो,  सत्तावन  के  चुम  और  इक्कीस  साल  के  युवान , दौड़ती  गाड़ी  की खिड़की  से  सरकते  अमेरिकी  नज़ारे निहारने  में बिलकुल  बच्चे  बने  हुए  थे।  डेला  और  सना एक  दूसरे के कान  में  लगातार अंडे फैंट रही थीं। उनके  पास  समय  और  लफ्ज़  कम  थे, बातें  बहुत  ज्यादा।  
     वुडन  को  तो  यह  ख्याल  ही  मादक  लग  रहा  था,  कि  जिस  बेटी को  वह  नर्म  बिल्ली  के बच्चे  सा  छोड़  कर  गया  था, वह  फर्राटे से  गाड़ी चलाती  उसे  बफलो  की ओर  ले जा  रही थी। 
     अगले कुछ  पल  तीनों  मेहमानों  ने  ताबड़तोड़  फोटोग्राफी  में  बिताये।  
     पेरिना  और  किन्जान  ने  मेहमानों  का  जिस  गर्मजोशी  से  स्वागत  किया,  वैसा  स्वागत  चीन  को अमेरिका से,  या  अमेरिका  को  चीन  से  स्वप्न  में  भी  नसीब  नहीं  हुआ  होगा। शर्मीले युवान  को  सना  और  सिल्वा  जैसे  दोस्तों के  साथ   ने  प्रवास  को  यादगार बनाने में  कोई  कसर   नहीं  छोड़ी। 
     बफलो शहर  दो  भागों  में  बटा  हुआ   था, एक  तरफ  तो  स्थानीय  लोगों की  बहुतायत  थी, दूसरी  ओर  दुनिया के  तमाम देशों  के  सैलानी  फैले  हुए  थे,  जहाँ  नायग्रा  फाल्स  देखने  आने  वालों  का  जमघट  रहता  था। उसी  के  अनुपात  में  विभिन्न लोगों  ने  अपने-अपने  देश  के  लोगों  को  खान-पान  की  सुविधाएँ  देने  के  लिए  अपने  रोज़गार जमा  रखे  थे। 
     मिस्टर  हो  ने  किन्जान  को  बताया  कि  वे शंघाई  के  समीप  एक  छोटे  कसबे  में बने   एक  स्टेडियम  के मालिक  थे, जहाँ  वे  बच्चों  को  खेलों  की  नामी-गिरामी  स्पर्धाओं  के  लिए  तैयार  करते  थे। दूध पीते  छोटे  बच्चों  को  कद्दावर  युवा  खिलाडियों  में  बदलना  उनका  शौक  ही  नहीं,  बल्कि  व्यवसाय  था। मां -बाप अपने  बच्चों  को  उन्हें  सौंप  कर  उनके  सुनहरे  भविष्य  के  लिए  निश्चिन्त  हो  जाते  थे। वे भी  बच्चों  के  शरीर  को  फौलाद  का  बनाने  में  कोई  कोर- कसर  नहीं  छोड़ते  थे। वे  खेल  को  शौक  से  उठा  कर  मुहिम   में बदलते थे,  और अपने  हुनर  और  धैर्य  का  मोटा  मोल  वसूलते  थे। मिस्टर  चुम  खेलों के  अंतर राष्ट्रीय  फायनेंसर  थे। सना और  सिल्वा  को  यह  जान  कर  बहुत  मज़ा  आया  कि  युवान  इंटर-नेशनल स्तर का  तैराक  है। 
     इन  मेहमानों की कंपनी बच्चों को  भर्ती  करके  बिलकुल  प्रचार  के  बिना  गुप्त  स्थान  पर  प्रशिक्षण  देती  थी,  और  जब  बच्चों  की  कोई  बड़ी  उपलब्धि  हो  जाये,  तभी  उन्हें  सामने  लाया  जाता  था। पूरा  परिवार  सभी  मेहमानों  से  अच्छा-खासा  घुल-मिल  गया। दिन  दौड़ने नहीं,  उड़ने  लगे...[जारी...]     

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...