Wednesday, May 30, 2012

INTERVAL

आज से "उगते नहीं उजाले " को हम कुछ दिन का विराम दे रहे हैं ताकि  कहानी की नायिका 'लाजो लोमड़ी' कुछ सोच विचार कर के अपना जीवन सुधार सके।
     तब तक आप पढ़िए, मेरी सौ लघु-कथाओं में से कुछ चुनिन्दा छोटी कहानियों का इंग्लिश अनुवाद। 

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...