Saturday, May 12, 2012

"मदर्स डे" किसका दिन है?

माँ के  लिए  एक  दिन? 
कैसा लगता  है,  सुनकर। 
क्या करें  इस  दिन?
क्या  रसोई  से  माँ   को  आज  का  अवकाश  देदें?
क्या  माँ   को  नए  कपड़े दिलवा कर उसे  कहीं  बाहर  खाना  खिला  कर  लायें?
क्या आज के  दिन  घर  के  हर  काम  के  लिए  पिता  से  ही  कहें?
या रख लें  हम  सब  कोई  करवा-चौथ  जैसा  व्रत  माँ  के  लिए 
नहीं-नहीं, ये  सब  बड़ा  मुश्किल  है ...
चलो माँ   से  ही  कहें,  आज  कुछ  अच्छा सा  बना  कर  खिलाये ...
माँ   से  ही  कहें-  करे  सबकी  फरमाइश  पूरी ...
मनवाए  'मदर्स  डे'...

4 comments:

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...