Wednesday, February 23, 2011

रक्कासा सी नाचे दिल्ली 8

ये शाहजहाँ की दिल्ली है , है वास्तुकला की दीवानी
होटल - मधुबार बनाती है कर झुग्गी - बस्ती वीरानी
ये काल-चक्र के हस्ताक्षर अकबर-बाबर का दिल दिल्ली
खूंरेजी और अहिंसा-प्रिय ये नेहरु-गाँधी की दिल्ली
ये खून-सना बापू का घर , ये रक्त-सिक्त इंदिरा का घर
ये बारूदों से मज्जा की जब-तब होती टक्कर का घर
ये पंडों-पीर-पुजारी की चलती दूकानों की बस्ती
ये सारे भारत को अपने प्रवचन से भरमाती दिल्ली
पाना हो सांसों का परमिट, दिल्ली दफ्तर में अर्ज़ लगा
लेना है रोटी का कोटा , दिल्ली के आगे जुगत भिड़ा
गेंहू,जौ,चावल, प्याज़,नमक, पिज्जा-नूडल प्रायोजित हैं
अब कोंटीनेंटल छौंक रही , देसी घी में देखो दिल्ली
हो एक्सपोर्ट पानी बाहर इम्पोर्ट ब्रांडी-व्हिस्की का
प्याऊ से ज्यादा मधुशाला,ये धंधा खूब मुनाफे का
सौंधी मिट्टी के गर्भ बीच अब पत्थर का सपना बोती
शीशे के कक्षों में लिखती खेतों का अर्थशास्त्र दिल्ली

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...