Wednesday, February 2, 2011

शेयरखाता खोल सजनियाँ 8

इस युग में जो शेयर पाता उसके होते साथी-संगी
वो ही कहलाता है जग में महावीर विक्रम बजरंगी
शेयर सुख है रेयर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
चाहे ना हों मुल्ला-काजी हो निकाह हो सकती शादी
शेयर हीन मिले जो शौहर तो बीबी की है बर्बादी
शेयर में ही मेहर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
ख़ास हिफाज़त इसकी करना,जीवन हो जाता है कारा
पेंट फटे तो सिल जाती है शेयर फटे लुटे जग सारा
जीवन में ये केयर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।
सरकारों की मजबूती से भला कभी भी क्या पाओगे
शेयर की मजबूती देती मज़ा,इसी के गुण गाओगे
छक्के खूब छुड़ाकर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...