Monday, January 31, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 5

बच्चे ना हों गोद मिलेंगे, बीबी ना हो चल जाएगा
लेकिन शेयर नहीं मिले तो जीवन यूं ही ढल जाएगा
लाइफ का ये पेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
प्रलय हुई धरती पर फिर भी शेयर तो आबाद रहेगा
जब तक सूरज- चाँद रहेगा ये धंधा नाबाद रहेगा
खूब दलाली देकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
करनी हो बेटे की शादी, ब्रोकर से पत्री मिलवाना
जन्म-कुण्डली छोड़ बहू की, भाव-पत्र नक्षत्र मिलाना
शेयर वाला नैहर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
साथ बराती वे ही जाएँ, जिनको ऊंचे शेयर भायें
दुल्हन के द्वारे जाते में शेयर भावों पर बतियाएं
सोफा-फ्रिज-स्कूटर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...