Monday, January 31, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ ४

सदी बीसवीं मान न रखे इसकी खोज नहीं है शेयर
किया राधिका ने कान्हा को साथ रुकमनी के ही शेयर
ये इतिहास धरोहर लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
सत्य सनातन शेयर गाथा, कोई नया नहीं है शेयर
पांडव पांच किया करते थे, एक द्रौपदी को ही शेयर
मांग-छीन-रो-हंसकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
कोई मिल जब नफ़ा कमाती, उसका चढ़ जाता है शेयर
जो घाटे में जाती, जाता उसका ठीक रसातल शेयर
टोटा-नफ़ा तौलकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
मूंछें तो फिर भी उग जातीं, सही-सलामत होठ रहें तो
बापू का अकडू भाई भी, चाचू होता नोट रहें तो
मूंछों के ये हेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...