Sunday, January 30, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 3

लेने को जायेगा जब भी लम्बी-चौड़ी लाइन होगी, घबराकर प्यासा मत आना, लाइन में ही वाइन होगी।
तू भी करना डेयर, लेना जैसे भी हो शेयर लेना।
बांग नहीं देते मुर्गे अब, उठ कर भाव बताते हैं वो, जिनके गिरते गिर जाते हैं, जिनके चढ़ते चढ़ जाते वो।
गिर कर लेना चढ़कर लेना ,जैसे भी हो शेयर लेना।
ब्रोकर जी को शीश नवाना, धूप दीप सा चैक चढ़ाना, चरनामृत सा शेयर पाकर तू धारक की पदवी पाना।
गद्दी फेंक के चेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
गाय हमारी माता है यदि, पूजनीय है उसका गोबर, तब "बुल" ही तो पिता हमारा तुमको नमन करें हे ब्रोकर।
जो देदे सो बेहतर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।
शेयर से ही दुनियां चलती, दुनियां में होता है शेयर, भारत-पाक बने जब पाया, नेहरू से जिन्ना ने शेयर।
शेयर देकर शेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...