Sunday, January 30, 2011

शेयर खाता खोल सजनियाँ 1- 2

जोड़-तोड़ की इस दुनिया में,पांच-पांच दस वैसे होते
पर सब सूत्र बदल जाते हैं, अगर जेब में पैसे होते
तुम पैसे की केयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
खेतों में गेंहूँ बोने से गेहूं का पौधा लहराता 
लेकिन इस बाजार चवन्नी, बोकर फल 'रुपया' लहराता
तुम प्रॉफिट ये रेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
बाबा की जेबें हों खाली,अम्मा का बटुआ तो होगा
भाभी से छिप कर ले लेना, भैया का खटका जो होगा
सिंगल लेना पेयर लेना,जैसे भी हो शेयर लेना
छीन झपट कर लूटपाट कर, चोरी करना फाका करना
चुरा-मांग कर छुरा मार कर,मर्डर करना डाका करना
फाउल लेना फेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
रिश्ते होते रूपरंग से, नाते जुड़ते मन से भैया
पर सब रंग बदल जाते हैं, अगर पास में होय रुपैया
लेकर देना देकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
बात खरी ये सुन लो तुम भी, अगर जेब में नामा होता,
अम्मा का बेकार निखट्टू, भाई प्यारा मामा होता
रिश्ते देखभाल कर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
  
रोग व्याधि पर जोर नहीं है, कब कडकी छा-जाये तुझ पर,
जन्म मरण पर जोर नहीं है जब तक है तू लेले शेयर
है ये जीवन भंगुर लेना , जैसे भी हो शेयर लेना
मंदिर- मस्जिद- चर्च बनाओ सौ जोखिम प्राणों में फंसते,
पर शेयर बाज़ार बने तो नेता जनता दोनों हंसते
अनुकम्पा की चेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
रोटी अगर तुझे ना मिलती चावल खाकर पेट भरेगा,
लेकिन शेयर नहीं मिला तो लाइफ कैसे सेट करेगा
साम-दाम अपनाकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
पंजाबी गुजराती सिंधी, राजस्थानी या बंगाली,
इस जादू के मंतर से ही,सब की दूर हुई कंगाली
ये थाली का घेवर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
शिक्षा मिलती डोनेशन से, डोनेशन रिश्वत से मिलती,
रिश्वत मिलती पोजीशन से, पोजीशन शेयर से मिलती
तू दिन रात भुलाकर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना
ब्याज मिलेगा क़र्ज़ मिलेगा, हर हफ्ते हर वर्ष मिलेगा,
अगर जेब में शेयर होंगे, हर्षद जैसा हर्ष मिलेगा
जमी माल की लेयर लेना, जैसे भी हो शेयर लेना

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...