Monday, December 31, 2012

और इस तरह मैंने मान ली स्मार्ट इंडियन और मृत्युंजय कुमार की बात। शुभकामना दीजिये कि मेरा संकल्प पूरा हो। 

1 comment:

  1. हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...