Tuesday, December 4, 2012

मित्रता की लोच अर्थात इलास्टिसिटी ऑफ़ फ्रेंडशिप

पुराने समय में मित्र ऐसे बनते थे-
-पास-पड़ौस में रहने वाले हम-उम्र लोग।
-साथ पढ़ने वाले बच्चे या साथ काम करने वाले लोग।
-लड़कों के मित्र लड़के और लड़कियों की मित्र लड़कियां
-यात्राओं में मिल जाने वाले समान-स्तरीय लोग।
अब दोस्त ऐसे बनते हैं-
दुनियां के किसी भी कौने में बैठे किसी भी उम्र,व्यवसाय,कैसी भी अभिरुचियों के किसी भी प्राणी की मित्रता दिन- रात के किसी भी पहर  दुनियां के किसी भी स्थान पर कुछ भी करने वाले किसी भी उम्र के,किसी भी व्यवसाय के,कैसी भी शक्ल-सूरत के किसी भी जाति-धर्म-नस्ल-सम्प्रदाय के किसी भी भाषा के बोलने वाले, न बोलने वाले, अमीर-गरीब, गोरे-काले लम्बे-छोटे-मोटे-पतले स्वस्थ बीमार स्त्री-पुरुष या अन्य,के साथ परवान चढ़ सकती है। शर्त केवल एक है कि  वे दोनों हों। [ये मत कहियेगा कि जो न हो उसकी छवि से भी हो सकती है]
इसी से अनुमान लगाइए, कि  मित्रता की लोच की सीमा क्या है?
अब दूसरी बात यह है कि  मित्रता की अवधि क्या है?
यह एक क्षण से लेकर जन्म-जन्मान्तर तक हो सकती है।
एक बार दो घनिष्ठ मित्रों से किसी ने पूछा, आप दोनों एक दूसरे के साथ न होने पर कैसा महसूस करते हैं? पहले ने कहा- "ऐसा लगता है जैसे सूर्य से टूट कर एक टुकड़ा ठंडा हुआ और धीरे-धीरे उस पर जीवन तो आया, मगर इस सारी प्रक्रिया में समय बहुत लग गया।"
दूसरा बोला-"इसने बता दिया न , बस, वैसा ही।"
वह व्यक्ति बोला- "अच्छा,जब आप दोनों साथ होते हैं तब आपको कैसा लगता है?"
दोनों कुछ न  बोले।       

2 comments:

  1. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन,पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब.
    आपके अद्भुत लेखन को नमन,बहुत सराहनीय प्रस्तुति.बहुत सुंदर

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...