Friday, March 9, 2012

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर राजेश कुमारी जी ने याद किया प्यारी बिटिया को

राजेश कुमारी जी ने जब कल न्यारी-प्यारी बिटिया को याद किया, तो मुझे लगा कि कहीं किसी महकते बाग़ में कोई गुलाब खिल गया. कुछ देर उस गुलाब की महक और होली के रंगों में सारा नज़ारा अलौकिक लगता रहा लेकिन फिर किसी गुलाब के पौधे पर लगे असंख्य काँटों की तरह एक सवाल मेरी सोच को भी चुभने लगा. एक उदासी ने भीतर घर कर लिया. मैं अपने-आप से पूछने लगा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि हमने एक दिन बिटिया के नाम करके चुपके से बाक़ी तीन सौ चौंसठ दिन बेटे की नज़र कर दिए?
मुझे लगता है कि जब भी बेटे-बिटिया की बात आती है हम अपनी बरसों की सभ्यता-संस्कृति को भूल-बिसरा कर ज़माने से हज़ार बरस पीछे हो जाते हैं. जो लोग आज भी बेटे को इंसान और बिटिया को बोझ की गठरी मानते हैं उनके नसीब पर कहर टूटे. कीड़े-मकोड़ों को ऐसे लोगों के जीते-जी उनके बदन से महाभोज मिले.  

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...