Thursday, October 11, 2012

जिसकी मिसाल दे न सकें सातों आसमाँ

     गलती किसी की भी हो,ज़िम्मेदारी से बच नहीं सकता। ये यकीनन ऐसी ही दास्ताँ है जिसकी मिसाल सातों आसमान भी मिलके नहीं दे सकते।
   वो बच्ची अस्सी साल की थी तो क्या, उसका बाल-सुलभ उत्साह से खेलने-गाने का शौक अभी बरकरार था। वे सजती भी थी, खिलखिलाती भी थी तथा  बच्चे और किशोर उसे अपना व अपना सा समझ कर उसे घेरे भी रहते थे। मंच पर आने में उसकी सांस फूलती थी तो क्या, उसकी आस भी तो फलती थी। वह अभिनय सीख रही थी, ठीक वैसे ही, जैसे कोई किशोरी हथेलियों पर मेहँदी रचाना सीख रही हो। वो दिन भर सारे में घूम कर जब घर लौटती तो अपनी बड़ी बहन को दिन भर की ऊँच-नीच ऐसे सुनाती थी जैसे अभी-अभी बचपन छोड़ कर समझदार हुई हो।वह अपनी दीदी की तीसरी आँख बनी हुई थी। अपने घर के किरायेदारों से घनी सहेलियों की तरह ही ईर्ष्या भी पालती थी।
   वह इतनी बड़ी कब हो गई कि  उसकी छप्पन साल की लड़की उसे छोड़ कर चली जाये, वो भी आत्म-हत्या करके ! ठीक भी तो है, वर्षा का क्या, कभी भी बरस कर थम जाय। बात तो आशा की है, वह कभी न टूटे !

9 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. always i used to read smaller content that as well clear their motive, and that is also happening with this paragraph which I am reading here.
    Feel free to surf my site :: http://www.erovilla.com

    ReplyDelete
  3. This web site truly has all the information and facts I
    wanted about this subject and didn't know who to ask.
    Here is my weblog : Free Webcams

    ReplyDelete
  4. Great article, totally what I was looking for.
    Here is my website :: cams for free

    ReplyDelete
  5. At this moment I am ready to do my breakfast, later than
    having my breakfast coming over again to read more news.

    ReplyDelete
  6. Hey there! I just wanted to ask if you ever have any issues with hackers?
    My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing a few months
    of hard work due to no backup. Do you have any solutions to
    prevent hackers?

    Here is my blog post: source

    ReplyDelete

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...