Monday, May 12, 2014

ज़माने बीतते कहाँ हैं?

 जब कोई राजा अपने शौर्य को दुनिया के सामने लाने के लिये अश्वमेघ यज्ञ करता तो शूरवीर उसके घोड़े को  पकड़ने-रोकने के लिए इधर-उधर दौड़ा करते थे।  यदि अकेले कुछ न कर पाएं, तो एक-दूसरे की मदद लेने में भी गुरेज़ नहीं करते थे, चाहे हाथी-घोड़े-पैदलों को एक साथ ही क्यों न दौड़ना पड़े । उनके हाथ लहूलुहान हो  जाते, तो वाक़युद्ध शुरु हो जाता था।
मज़े की बात ये कि कोई कहता-"घोड़े को रोको, ये अपनी आंधी से सब तहस-नहस कर देगा," तो वहीँ कोई दूसरा कहता -"इस घोड़े की आँधी तो क्या,हवा तक नहीं है।"
यह सिलसिला तब तक चलता,जब तक राजा चक्रवर्ती सम्राट होकर महल में न आ जाता।  उसके बाद कुछ हाथ जुड़ जाते, कुछ मले जाते।  
          

4 comments:

  1. बहुत खूब , सही और सटीक भी .

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सही और सटीक बात कही है आपने , आज के हालात को देख कर

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...