Monday, May 12, 2014

ज़माने बीतते कहाँ हैं?

 जब कोई राजा अपने शौर्य को दुनिया के सामने लाने के लिये अश्वमेघ यज्ञ करता तो शूरवीर उसके घोड़े को  पकड़ने-रोकने के लिए इधर-उधर दौड़ा करते थे।  यदि अकेले कुछ न कर पाएं, तो एक-दूसरे की मदद लेने में भी गुरेज़ नहीं करते थे, चाहे हाथी-घोड़े-पैदलों को एक साथ ही क्यों न दौड़ना पड़े । उनके हाथ लहूलुहान हो  जाते, तो वाक़युद्ध शुरु हो जाता था।
मज़े की बात ये कि कोई कहता-"घोड़े को रोको, ये अपनी आंधी से सब तहस-नहस कर देगा," तो वहीँ कोई दूसरा कहता -"इस घोड़े की आँधी तो क्या,हवा तक नहीं है।"
यह सिलसिला तब तक चलता,जब तक राजा चक्रवर्ती सम्राट होकर महल में न आ जाता।  उसके बाद कुछ हाथ जुड़ जाते, कुछ मले जाते।  
          

4 comments:

  1. बहुत खूब , सही और सटीक भी .

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सही और सटीक बात कही है आपने , आज के हालात को देख कर

    ReplyDelete

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...