Friday, May 23, 2014

जैसा देश वैसा भेष

नया खुला था वो विद्यालय
बिल्ली ने ले लिया प्रवेश
ज़ीन्स पहन कर पढ़ने आई
जैसी नगरी वैसा वेश

लंच हुआ तो सारे बच्चे
दौड़े सरपट आगे-आगे
लंच-बॉक्स बिल्ली ने खोला
निकल-निकल कर चूहे भागे।  

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...