Friday, May 23, 2014

खाने के दाँत , दिखाने के दाँत , भींचने के दाँत , पीसने के दाँत

खींच रहे थे हाथी दादा
बाँध पूंछ में इंजन एक
इंजन में भरकर लाए थे
नया दन्त-मंजन वो एक

शेरू बोला- टूथपेस्ट की
क्या दुकान खोलोगे आप
इतना सारा मंजन, दादा
कहाँ काम में लोगे बाप?

बोले दादा- तुझको दिखते
फ़क़त दिखाने वाले दाँत
मुंह में ढेरों और कई हैं
मेरे खाने वाले दाँत।    

No comments:

Post a Comment

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...