Friday, September 2, 2011

फ़िल्मी द्रश्य [भाग २]-हर फिल्म को खत्म तो होना ही होता है

हर फिल्म 'द एंड' की ओर ही चलती है,लिहाज़ा वे लड़का-लड़की भी धूल उड़ाते हुए चले गए.लेकिन यह धूल एक छोटा सा सवाल ज़रूर छोड़ गई.आखिर इस दो पल के ठहराव का कारण क्या रहा होगा? आइये सोचें-
१.लड़की बद-मिजाज़ थी.
२.लड़के में शिष्टाचार की कमी थी.
३.नगर-नियोजक में कल्पना-शीलता का अभाव था.
४.कारों में तकनीकी कमी थी.
५.चरवाहे को बे-वजह दखलंदाजी की आदत थी.
६.छोटा शहर होने से सबके पास पर्याप्त समय था.
७.लड़का-लड़की आपस में आकर्षित हो गए थे.
८.दोनों को ही ड्राइविंग कम आती थी.
आप क्या कहते हैं?

No comments:

Post a Comment

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...