Friday, September 2, 2011

फ़िल्मी द्रश्य [भाग २]-हर फिल्म को खत्म तो होना ही होता है

हर फिल्म 'द एंड' की ओर ही चलती है,लिहाज़ा वे लड़का-लड़की भी धूल उड़ाते हुए चले गए.लेकिन यह धूल एक छोटा सा सवाल ज़रूर छोड़ गई.आखिर इस दो पल के ठहराव का कारण क्या रहा होगा? आइये सोचें-
१.लड़की बद-मिजाज़ थी.
२.लड़के में शिष्टाचार की कमी थी.
३.नगर-नियोजक में कल्पना-शीलता का अभाव था.
४.कारों में तकनीकी कमी थी.
५.चरवाहे को बे-वजह दखलंदाजी की आदत थी.
६.छोटा शहर होने से सबके पास पर्याप्त समय था.
७.लड़का-लड़की आपस में आकर्षित हो गए थे.
८.दोनों को ही ड्राइविंग कम आती थी.
आप क्या कहते हैं?

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...