Thursday, September 1, 2011

क्या सोवियत रूस की याद किसी को आती है

याद तो ऐसी चीज़ है जो किसी को भी,किसी की भी,कभी भी आ सकती है.आर्मेनिया,अज़रबैजान,बेलारूस,जॉर्जिया,कज्ज़ख्स्तान ,किर्गिस्तान,लातविया,लिथुअनिया,मोल्दोवा,ताजिकिस्तान,तुर्कमेनिस्तान,उज्बेकिस्तान,क्रोएशिया और खुद रशिया के लोगों को तो यूएसएसआर याद आता ही होगा.
क्या भारत,पाकिस्तान और बंगलादेश एक दूसरे को भूल पाए हैं.

2 comments:

  1. vighatan ka dukh bahut bada hota hai chaahe choti ikaai ghar ko hi lo,fir yah to desh vightan ka bada aaghaat hai yaad to sabhi ko aati hogi.vicharniya post hai.

    ReplyDelete
  2. vightan ko yaad karne ka maksad hi bhavishy ke vightanon ki kalpnik dararen bharna hai. aapki samvedansheelta isme sahayak hai.dhanywad.

    ReplyDelete

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...