Thursday, September 1, 2011

फ़िल्मी लगता है न यह द्रश्य ?

एक नगर के बाहरी इलाके में हरियाली से भरी एक सुनसान सड़क पर एक युवक तेज़ी से कार चलाता हुआ जा रहा था .संयोग से उसी सड़क पर सामने से एक युवती भी तेज़ी से कार चलाती हुई आ रही थी.सड़क संकरी थी,बिना गाड़ी को नीचे उतारे दो गाड़ियों का निकलना संभव न था.दोनों ने ब्रेक लगा लिए,कुछ पल ठहरे,फिर एक दूसरे को हॉर्न देने लगे.
दोनों में से कोई झुकने को तैयार न था.लड़का कह रहा था कि उसकी गाड़ी के टायर कमज़ोर हैं,नीचे उतारने से कट जायेंगे.लड़की कह रही थी कि यदि सामने कोई ट्रक या जानवर होता,तब भी तो वह नीचे उतरता?
बहस को कौतुक से देख रहा एक चरवाहा उधर आ निकला.वह पास आकर लड़के से बोला-सर,मैं सड़क के किनारे मिट्टी डाल देता हूँ,आपके टायर कटेंगे नहीं.लड़के के मना करने पर वह लड़की से मुखातिब हुआ-आप निकाल लो,गाड़ी फंसेगी नहीं,मैं धक्का लगा दूंगा.लड़की ने हिकारत से मुंह फेर लिया.

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...