Friday, April 1, 2011

वर्ल्डकप माने विश्व-प्याला

आज न जाने क्यों ' बच्चन ' की , याद आ रही मधुशाला । झूम रहा है देश नशे में , पहने यादों की माला। नगर-नगर ने , गाँव-गाँव ने , मुंबई का रस्ता पकड़ा । किस के हाथ लगेगा , देखें , अबकी बार विश्व-प्याला । बल्ले की चाबी को लेकर , उतर रहे हैं मतवाले। घुमा-घुमा कर कैसे खोलें , आज रनों का ये ताला । बालीवुड का तारक-दल भी , काम छोड़ कर आ बैठा । कितने आउट पूछ रहा है, जीजा हो चाहे साला । दफ्तर-दफ्तर धूम मची है , बाज़ारों में चढ़ा खुमार । दौड़-दौड़ कर रन लेने हैं, चाहे पड़ जाये छाला ।

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...