Tuesday, April 12, 2011

निवेश का शानदार अवसर

क्या आपने एक बात पर ध्यान दिया? एक तरफ तो हम मेडिकल सुविधाओं के लगातार बढ़ते जाने के कारण लम्बी उम्र पाने लगे हैं, दूसरी तरफ हर काम में तकनीकी सुविधाओं और यंत्रों के आते जाने से हमारा समय और श्रम बचने लगा है। फिर जो ज्ञान और अनुभव हम पहले बरसों जीने के बाद पाते थे , वह अब हमें पलक झपकते ही हासिल होने लगा है। खेलों की एक एक बारीकी जो खेल मैदानों पर कई दिन तक खेल को देखने के बाद बच्चों को जानने को मिलती थी , वह अब बच्चे टीवी पर थोड़ी ही देर में जान लेते हैं। पहले ज्ञान के लिए गुरु तलाशने और वहां तक पहुँचने में बहुत श्रम और समय लगता था, अब ज्ञान हर सुबह खुद हमारे द्वार पर दस्तक दे देता है। इस इतनी बड़ी सुविधा का क्या हमको कुछ लाभ नहीं उठाना चाहिए? मुझे तो लगता है कि ज़रूर उठाना चाहिए। एक छोटी सी कल्पना कीजिये। एक खेत में किसी अनाज के एक दाने को उगने के बाद से कहाँ-कहाँ का सफ़र करना पड़ता है? वह खेत से बोरा बंद होकर गोदाम में आता है, फिर किसी मण्डी के रास्ते किसी दुकान पर, और तब बिक कर किसी ग्राहक की रसोई में।यहाँ वह भोजन बनने के समय अपने अंतिम लक्ष्य पर आता है। गृहणी या रसोइया उसे धो कर या साफ करके किसी बर्तन में पकने के लिए चढ़ा देते हैं। तब वह आपकी खाने की मेज़ पर आता है , और अपने सारे गुणों के साथ आपके उदर में समां जाता है।इस पूरी प्रक्रिया में हर जगह उस दाने के कुछ साथी छिटक कर इधर-उधर ज़रूर गिरते हैं। उसी तरह जीवन में भी कुछ बच्चे या लोग अपने गंतव्य से भटक कर इधर-उधर छूट जाते हैं।अपना बचा हुआ समय, धन और ध्यान उनके हित में लगाइए।

No comments:

Post a Comment

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...