Friday, April 1, 2011

विश्व- प्याला

धोनी - गौतम और विराट ने , तैयारी का जाल बुना । खान, मुनाफ , हरभजन ने भी मछली को कांटा डाला । फेंकेंगे युवराज , सुदर्शन चक्र शत्रु की सेना पर । कितने घायल, बतलायेंगी दुनिया को टीवी-बाला । पीसेंगे सहवाग- सचिन जो, देश वही अब खायेगा । चूल्हे- चौके बंद , खुलेगी छक्कों की बस मधुशाला । खेल - खेल में आकर बैठे , दूर देश से राजाध्यक्ष । रण में कत्ले-आम मचेगा , बिना तीर और बिन भाला । बरसों पहले झेल चुके हैं , जंग अयोध्या और लंका । देखें अबकी बार पड़ेगी , किस के गले विजय माला ।

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...