Friday, April 1, 2011

विश्व- प्याला

धोनी - गौतम और विराट ने , तैयारी का जाल बुना । खान, मुनाफ , हरभजन ने भी मछली को कांटा डाला । फेंकेंगे युवराज , सुदर्शन चक्र शत्रु की सेना पर । कितने घायल, बतलायेंगी दुनिया को टीवी-बाला । पीसेंगे सहवाग- सचिन जो, देश वही अब खायेगा । चूल्हे- चौके बंद , खुलेगी छक्कों की बस मधुशाला । खेल - खेल में आकर बैठे , दूर देश से राजाध्यक्ष । रण में कत्ले-आम मचेगा , बिना तीर और बिन भाला । बरसों पहले झेल चुके हैं , जंग अयोध्या और लंका । देखें अबकी बार पड़ेगी , किस के गले विजय माला ।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...