Saturday, February 23, 2013

गोश्त के बुलबुले

धरती पर आदमी बहुत समय से  है।  न जाने कब तक रहेगा। किसी को आपत्ति नहीं है, अनंत-काल तक रहे।
लेकिन कम से कम इस तरह तो रहे कि  उसके होने के अक्स मृत-आत्माओं की आँख की पुतलियों में तो न बनें। पर बन रहे हैं, कुछ लोग इसी तरह जीना पसंद करते हैं।
कुछ लोग भटक जाते हैं। वे जीवन की ज़मीन पर अपने दस्तखत करने के लिए दूसरों के लहू का इस्तेमाल  करते हैं। वह अपना सोच-राग गाने के लिए निर्दोष चमड़ी के ढोल मढ़ते हैं। वे दूसरों के तन की राख पर अपना बेहूदा तांडव करते हैं। वे अपने पैदा करने वालों और पालने वालों के लिए तामसी कलंक रचते हैं।
वे दुनिया के इतिहास में इस तरह याद किये जायेंगे, कि  हाँ, जीवन की बहती नदी में कुछ गोश्त के बुलबुले दिखे थे कभी।
हैदराबाद के ज़ख्म भरें, ऐसी शुभकामनाएं।

1 comment:

  1. बिल्कुल सही कहा आपने

    ReplyDelete

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...