Saturday, February 16, 2013

रशिया में उल्कापिंड और राजस्थान में ओले

राजस्थान में उस समय नीबू के आकार के ओले खेतों में गिर रहे थे जब रशिया में आसमान से आग बरसाते हुए उल्कापिण्ड  गिर रहे थे। यह दोनों ही क्रियाएं परस्पर विरोधाभासी इसलिए हैं क्योंकि आम तौर पर रशिया को बर्फ की तरह ठंडा और राजस्थान को पानी विहीन तपता प्रदेश माना जाता है।
ये घटनाएं प्रकृति, माहौल और समय का क्रोध है, जो मौजूदा दुनिया पर झल्ला कर टूट रहा है। सब जैसे एक दूसरे की बात न मानने और अपनी मनमानी करने पर आमादा हैं। सारी दुनिया एक सी है, यह राग अब निसर्ग से भी सुनाई दे रहा है।
इसका एक अच्छा पक्ष भी है। सब देशों के लोगों के रूप-रंग इसीलिए अलग-अलग होते हैं, क्योंकि वहां की जलवायु अलग-अलग होती है। जब यह निजता छिन्न-भिन्न होने लगेगी तो शायद एकदिन हम सब भी एक से रंग-रूप के होने लगें। यदि ऐसा दिन आता है तो वह निश्चय ही बेहतर होगा।

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...