Thursday, February 21, 2013

हे ईश्वर, हमें शक्ति दो ताकि हम आलोचना करने से बच सकें

पिछले दिनों मैं अपने एक मित्र के घर बैठा था कि टीवी के कार्यक्रमों की चर्चा चल पड़ी। "लोग इन कार्यक्रमों को गंभीरता से नहीं लेते, इसलिए इनका स्तर भी गिरता जा रहा है", ऐसा कहने वाले एक सज्जन बता रहे थे कि  कुछ समय पहले तक वे एक चैनल बड़े शौक से देखते थे, लेकिन अब उन्होंने उसे देखना छोड़ दिया है। कारण  पूछने पर वे बोले- "वह चैनल ज़्यादातर एक ही हीरोइन की फ़िल्में और गाने दिखाता रहता है,जबकि उनमें कई तो ऐसी हैं जो बिलकुल चली भी नहीं थीं।"
एक अन्य मित्र बोले- "अरे भाई, वे तो फिल्म सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष हैं।"
एक अन्य मित्र बोले- "नहीं-नहीं, वह तो पहले भी ऐसे ही एक दूसरी हीरोइन की फिल्मों पर मेहरबान था, हमेशा उन्हीं की फ़िल्में और गाने दिखाता रहता था।" ऐसा कह कर उन्होंने उस हीरोइन का नाम भी लिया। 
मित्र  धीरे से बोले-"हाँ, तब वो सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष थीं।"
[आशा पारेख और शर्मीला टैगोर से क्षमा याचना सहित]

No comments:

Post a Comment

Some deserving ones for...No. 1

देश जल्दी ही एक नए राष्ट्रपति का नेतृत्व पाने को है। कहना पड़ता है कि राजनैतिक दलों का आपसी वैमनस्य और कटुता असहनीय होने की हद तक गिर चुके ह...

Lokpriy ...