Wednesday, February 13, 2013

सगे भाइयों में लड़ाई [दूसरा और अंतिम भाग]

सगे भाइयों जैसे दोनों कानों में जब वेलेंटाइन डे को लेकर झगड़ा हो गया तो बीच-बचाव करना ही पड़ा। मैंने उस कान का पक्ष लिया जो वेलेंटाइन डे का विरोध कर रहा था। उसकी बात को सही ठहराया। दूसरे कान से मैंने कहा- ये ठीक कहता है, हमें वेलेंटाइन डे  नहीं मनाना चाहिए। ये क्या बात हुई कि  हम प्यार का इज़हार दिवस मनाएं?
दूसरे कान ने कहा- यदि आप चाहते हैं कि  हम वेलेंटाइन डे  न मनाएं, तो आप इसका कारण बताएं।
मैंने कहा- मैं इसलिए इसका विरोध कर रहा हूँ कि हम साल में केवल एक ही दिन वेलेंटाइन डे  क्यों मनाएं?यह तो प्यार और उसके इज़हार का दिन है। हम रोज़ प्यार क्यों न करें? रोज़ इज़हार क्यों न करें?यदि साल में केवल एक दिन ही प्यार जताएं, तो बाकी सब दिन क्या नफरत में बिताएं? रोज़ हमारा वेलेंटाइन डे  हो,हम एक दूसरे से हमेशा प्यार करें।"वेलेंटाइन डे" की शुभकामनाएं!   

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...