Monday, February 13, 2012

अमिताभ बच्चन के सफल ऑपरेशन की ख़ुशी में, भारत की कल के क्रिकेट मैच में जीत के उन्माद में

अमिताभ बच्चन ने अपने अभिनय से दर्शकों को जो सुकून दिया है, वह कभी ख़ाली नहीं जाता.वह अपनी व्यस्त दिनचर्या के चलते जब-जब भी अपने शरीर की किसी व्याधि से ग्रस्त होते हैं, असंख्य दर्शकों की दुआएं उनका दिया सुकून उन्हें वापस  लौटाने की पुरजोर कोशिश करती हैं. आशा है वे जल्दी ही अपने कर्म-क्षेत्र के योद्धा बन कर फिर मैदान में आ डटेंगे.
कल एक बार मैच में पिछड़ जाने के बाद जिस तरह भारत ने अंत में क्रिकेट का वह मैच जीत लिया, ख़ुशी की बात है. तो ख़ुशी दोहरी हो गई.
इस दोहरी ख़ुशी के उल्लास में, मुझे लगता है कि बहती गंगा में मैं भी हाथ धो लूं. अपनी एक गलती आपको बता दूं, शायद ख़ुशी के अवसर पर मुझे भी आपकी क्षमा मिल जाये.
मैंने कुछ दिन पहले अपनी ४०० पोस्ट पूरी होने की घोषणा की थी. लेकिन मैं भूल गया कि मैंने बीच-बीच में अपनी कुछ पोस्ट्स के ड्राफ्ट हटा डाले थे. वास्तव में मेरी ४०० पोस्ट आज पूरी हो रही हैं.
मेरी एक छोटी सी इच्छा है कि कम से कम आज मुझे अपने सभी १५ फोलोअर्स से एक छोटा सा सन्देश ज़रूर मिले. मेरे हाथ में इंतज़ार करना है, वो मैं कर रहा हूँ, बाकी आपके हाथ में है. 

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...