Thursday, June 21, 2012

देखें ईश्वर किसका है?

लूट का माल थैले में भरकर
पुलिस से बच कर भागता एक लुटेरा
मंदिर के अहाते में घुस कर
ईश्वर से बोला-
मैं शरणागत हूँ,
मेरी और मेरे धन की
रक्षा करो भगवन !

कुछ देर बाद
मंदिर की उन्हीं सीढ़ियों पर
नंगे पाँव दौड़ता एक सिपाही
अपनी बंदूख को अदब से
परिसर के बाहर टिका कर
दाखिल हुआ भीतर और बोला-
मुझे शक्ति दो प्रभु,
कि  मैं दुष्टों और आतताइयों से
रक्षा कर सकूं
तुम्हारे भक्तों की जान और
उनके माल की !

जारी है जंग इस तरह
हमेशा, हर-एक के बीच
देखें, ईश्वर किसका है?

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...