Friday, July 4, 2014

रत्न कुमार सांभरिया, राम कुमार घोटड़, पारस दासोत, गोविन्द शर्मा, मुरलीधर वैष्णव, महेंद्र सिंह महलान की लघुकथायें पढ़ी हैँ आपने ? कैसी हैं ?

यदि आप हिंदी के अखबार, पत्रिकाएं और वेबसाइट्स देखते हैं तो इन लोगों की लघुकथाएँ आपने ज़रूर पढ़ी होंगी। यदि पढ़ी हैं तो आपको कैसी लगीं? यदि अच्छी लगीं, तो रचना के नाम के साथ खुल कर बताइये।यदि नहीं लगीं, तो भी कम से कम मुझे तो बता ही दीजिए -चुपचाप!  

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...