Tuesday, June 10, 2014

जिस धरती पर आप चल रहे हैं, उसमें आप के क़दमों तले हज़ारों हीरे बिखरे पड़े हैं, ये सोच कर आपको गर्व नहीं होता?

आपको हीरे का हार पहनना है, तो पहन लीजिये।
जहाँ जायेंगे, इसे सुरक्षित रखने के लिए एक मज़बूत बॉक्स साथ में रखिये।  कोई बॉक्स खोल न ले, एक मज़बूत सा ताला ज़रूर ले लें। हाँ,कोई बॉक्स ही उठा कर  ले जा सकता है, एक लोहे की चेन आपके पास होनी ही चाहिए।  गले से कोई इसे खींच ले गया तो मुसीबत होगी,गले पर चोट-खरोंच न आ जाये, फर्स्ट-एड का कुछ सामान आपके पास होना निरापद रहेगा।  ऐसे में एक सहायक या रक्षक आपके साथ हो तो बेहतर है। रक्षक निहत्था हुआ तो क्या कर लेगा? उसे एक रिवॉल्वर या बंदूख ज़रूर ले दें। लेकिन रक्षक खुद कहीं लालच में आकर भक्षक न बन जाए, उसका पुलिस वेरिफिकेशन करवा लें। यदि आप इन बातों में यकीन करते हैं, तो सोच लीजिये कि इतना कीमती हार पहनने पर कुछ लोग आपको नज़र ज़रूर लगा देंगे।  इसका इलाज़ आपको करके रखना है।
यदि आपको लगता है कि यह सब बड़ा झंझट है तो आपके पास एक विकल्प और भी है।  आप हार न पहनें।
          

No comments:

Post a Comment

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...