Sunday, June 15, 2014

"फादर्स डे" की ओट में पिता

पिता 
एक शामियाना 
आंधी-तूफ़ान-धूप से बचाने वाला 
एक दरख़्त 
छाया-छत और बीज देने वाला 
एक रिश्ता 
सपनों तक पहुँचने की सीढ़ियाँ देने वाला 
एक रिले-धावक 
पूर्वजों से लिया हुआ, संतति को सौंप देने वाला
अपने छोड़े हुए तीर की पावती पाने को आसमान में आँखें गढ़ाए बैठा 
प्रतीक्षारत नक्शानवीस !

 

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...