Saturday, November 12, 2011

वक्त की पाबन्द हैं, आती-जाती रौनकें

कल तारीखों का एक अद्भुत संयोग आया था. सदी का ११वा साल,साल का ११वा महीना, महीने का ११वा दिन. मैंने सोचा था इस मौके में दिन का ११वा घंटा और घंटे का ११वा मिनट भी जोड़ कर, आपसे कुछ ख़ास बात करूँ. 

2 comments:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति , आभार.

    ReplyDelete
  2. dhanywad, lekin is ajoobe awsar par aapse mera sampark toot gaya tha.

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...