Monday, July 26, 2010

पश्चाताप रजिस्टर

कई बार ऐसा होता है कि कोई व्यक्ति जब अपने उदगार व्यक्त करता है तो वह उदगार एकाएक प्रसिद्ध हो जाते हैं। महान व्यक्तियों की बातें तो आगे चलकर सूक्तियां बन जाती हैं। ऐसे में बाद में यदि स्वयं वह व्यक्ति भी उन विचारों को बदलना चाहे तो लोग यकीन नहीं करते।
कल रात सोते समय कुछ महान हस्तियाँ मेरे स्वप्न में आगईं। ऐसा लगता था जैसे उन्हें अपनी कही बातों पर पश्चाताप हो रहा हो। वे अपनी कही गई बातों में कुछ परिवर्तन करना चाहते थे।
मैंने तुरंत एक रजिस्टर और पैन अपने सिरहाने रख लिया। और उस पर स्वप्न में आने वाली हस्तियों के लिए नोट लिख दिया, कि आप अपने उद्गारों में जो भी परिवर्तन करना चाहें, कृपया इस पर लिख कर हस्ताक्षर कर दें।
सुबह रजिस्टर के कई पृष्ठ मुझे भरे हुए मिले। नीचे हस्ताक्षर भी थे। कुछ बानगियाँ आपके लिए प्रस्तुत हैं-
आराम हराम है [सरकारी कर्मचारियों पर लागू नहीं ]
बातचीत से हर बात का हल निकल सकता है [पाकिस्तान और नक्सलियों को छोड़कर ]
तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा , पर तुम्हें आज़ादी मिल गयी तो तुम खूनखराबा करोगे।
आज़ाद व्यक्ति ही कुछ मांग सकता है, बंदी क्या मांगेगा [ फ़िल्मी सितारा हो तो गद्दा और मच्छरदानी मांग सकता है]
तुम जीवनभर बच्चे नहीं बने रह सकते, किन्तु बचकानी बातें उम्रभर करते रह सकते हो।
परहित के समान कोई धर्म नहीं है, पर धर्म परहित नहीं स्वहित है।
स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है, यह बात अलग है कि हमें ढंग से स्वराज चलाना आता नहीं।
जय जवान, जय किसान, कुछ मारे जा रहे हैं, कुछ आत्महत्या कर रहे हैं।
सत्य की विजय होती है, पर काफी समय बाद और खूब खर्चा कर के।
ज्ञान ऐसा खज़ाना है जो कभी नष्ट नहीं होता पर डिग्रियां सम्हाल कर रखना, काम वही आयेंगी।
मेरा भारत महान, आंकड़े चाहें कुछ भी कहते रहें।
हरिजन ईश्वर की संतानें हैं, बाकी के लिए डी एन ए रिपोर्ट देखें।

1 comment:

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...