Thursday, July 29, 2010

सॉरी नानाजी अब आप बूढ़े हो गए

हमने कभी पढ़ा था कि धरती सूरज के टूटने से ही बनी है, इसी से सूरज के इर्द-गिर्द परिक्रमा करती रहती है। बचपन से ही सूर्य की महिमा जीवन में घुली-मिली देखी। हमें कहा जाता था कि सूर्योदय से पहले उठो। ब्रह्ममुहूर्त, जब सूरज निकलने को हो, सर्वाधिक महत्वपूर्ण समय माना जाता। पढ़ने के लिए इसी समय के उपयोग की सलाह दी जाती।
दिन के कार्यकलाप भी सूरज के रथ के साथ ही आगे बढ़ते। सांझ को जब सूर्य के क्षितिज पर ओझल होने की घड़ी आती, कहा जाता कि इस समय घर में मत बैठो, बाहर खेलो या टहलो। जाते सूरज की लालिमा आँखों में भरने के लिए लोग सूर्यास्त को निहारा करते। यहाँ तक कि मशहूर दर्शनीय स्थलों पर घूमतेसैलानियों के लिए विशेष सनसेट पॉइंट बनाए जाते।
गावों में तो यह आलम था कि इसी समय को गोधूलि वेला कहा जाता, और यह सारे दिन का पटाक्षेप मानी जाती। दिन ढलते ही घर लौटने और दिया-बाती होते समय घर में ही रहने की कोशिशें की जातीं।
अब सब कुछ बदल गया है। सूरज की कहीं किसी को परवाह नहीं रही। समष्टि रूप में चाहे हो भी, व्यष्टिगत रूप में तो सब बेपरवाह हैं सूरज से। रात देर तक चलते काम या पढ़ाई के कारण देर तक सोना स्वाभाविक है। जल्दी उठना लोगों की आदत में ही नहीं रहा। जहां कभी बच्चों की परीक्षाएं सुबह-सवेरे ली जाती थीं, १५ अगस्त और २६ जनवरी को सूर्योदय के समय प्रभात-फेरियां निकाली जाती थीं, अब सुविधाजनक समय पर सब हो गया है। सुबह उठना कष्टकर है और बिना बात कष्ट सहा भी क्यों जाए? कष्टों से निजात पाना, जीवन को सरल बनाना ही हमारा अभीष्ट भी है। परन्तु हम चाहे सूरज को अनदेखा कर दें, वह अपना काम कर रहा है, पार्श्व में रह कर घर का संरक्षण कर रहे किसी बूढ़े की तरह।
क्या आपने यह कहानी सुनी है - सुबह के समय स्कूल जाते एक बच्चे ने साथ चलते अपने दोस्त से पूछा - बादल क्या है?
दोस्त ने जवाब दिया, यह धरती ने अपनी गर्म साँसों से आसमान को संदेश भेजा है। तभी बरसात होने लगी। बच्चा बोला,शायद धरती के संदेश का जवाब आ गया। सूरज धुंध में छिपकर सब देख रहा था। मगर बच्चों को विद्यालय के लिए देर हो रही थी, इसलिए बोला - नो कमेन्ट।

5 comments:

  1. सुबह के समय स्कूल जाते एक बच्चे ने साथ चलते अपने दोस्त से पूछा - बादल क्या है?
    दोस्त ने जवाब दिया, यह धरती ने अपनी गर्म साँसों से आसमान को संदेश भेजा है। तभी बरसात होने लगी। बच्चा बोला,शायद धरती के संदेश का जवाब आ गया। सूरज धुंध में छिपकर सब देख रहा था। मगर बच्चों को विद्यालय के लिए देर हो रही थी, इसलिए बोला - नो कमेन्ट।
    वाह बहुत बढिया ।

    ReplyDelete
  2. प्रबोध जी, नमस्कार।
    आपके लेख पढ कर जिंदगी का अहसास हो आता है। दौडती जिंदगी को ठहरा कर अब आपको पढा है, तो आभास हुआ कि कितना स्वार्थ भर चुका है जीवन में।
    आपके ब्लॉग पर आता रहूँगा, और इतने सजीव लेखन के लिए आपको बधाई।

    ReplyDelete
  3. देश की महान संस्कृति को भूलने का नतीजा है.
    आपके विचार अच्छे हैं.

    हकनामा पर स्वर्ग नरक लेख पढ़ें.
    http://haqnama.blogspot.com/2010/07/swarg-nark-sharif-khan.html

    ReplyDelete
  4. ham bhautikwadi sanskriti ke changul me is tarah jakad chuke hain ki hame in cheezon se koi matlab hi nahi rah gaya hai.waise suna tha anubhav ka koi vikalp nahi apke bog par aakar sabit ho jata hai.

    ReplyDelete
  5. प्रबोध जी नमस्कार। आज पहली बार आपको पढ़ा - अच्छा लगा। आखिरी दो पैराग्राफ तो मासूमियत से भरे हैं। बहुत अच्छा लिखा है। बधाई!

    ReplyDelete

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...