Sunday, April 20, 2014

क्या आप बता सकते हैं कि इन्होंने किसे वोट दिया होगा ?

एकाएक आम आदमी पार्टी की प्रतिष्ठा बढ़ती देख एक वोटर महाशय ने कसम खाकर ऐलान कर दिया कि  वे हर हाल में इसी पार्टी को वोट देंगे.वे चल दिए बूथ की ओर. रास्ता कुछ लम्बा था, अतः अपने आपको सोचने से नहीं रोक पाये.रास्ते में सोचने लगे-
*अरे, ये तो कहते थे कि  न किसी का समर्थन लेंगे न किसी को देंगे ?
*अरे, ये तो कहते थे कि  दिल्ली की जनता का सम्मान करने के लिए सरकार बना ली, इन्हें २८ सीट देने वाली दिल्ली की जनता थी तो विरोधियों को ३२ सीटें देने वाली दिल्ली की जनता नहीं थी ?
* अरे, डेढ़ महीने बाद दिल्ली की जनता के सम्मान का क्या हुआ?
*अरे, ये तो कहते थे कि  भ्रष्टाचार करने वाले नेता को "झाड़ू"फेर कर हटाएंगे, इनके हटाये हुए तो राज्यपाल बन कर मौज कर रहे हैं ? अब जांच से सुरक्षित भी हो लिए.
*अरे, इन्हें तो दस-दस रूपये मुश्किल से मिलते हैं, ये बेचारे बस में भी कैसे घूम सकते हैं ?
*अरे,पर केंद्र से मदद-समर्थन लेने-देने का रेट क्या दस रूपये ही है ?
*अरे, इनके हराए मुख्यमंत्री की पदोन्नति हुई तो ये कम से कम धरने पर तो बैठ ही सकते थे ?
*अरे, ये बेचारे कर ही क्या सकते थे, गर्मियों में मफलर कौन पहनता है ?
सोचते-सोचते जा ही रहे थे कि सामने बूथ आ गया.सोचा- पान-तम्बाकू का मज़ा निगलने में उतना नहीं है जितना थूकने में.कसम का क्या है ? आज खाई कल थू …      

2 comments:

प्राथमिक उपचार है तुष्टिकरण

यदि दो बच्चे आपस में झगड़ रहे हों और उनमें से एक अपने को कमज़ोर पा कर रो पड़े तो हम उनमें फिर से बराबरी की भावना जगाने के लिए एक का तात्कालिक ...

Lokpriy ...