Sunday, August 5, 2012

तकनीक की दादागिरी

अच्छी और प्रभावी तकनीक की पहचान यह है कि वह अपनाई जाये, शायद यही कारण है कि अब आप तकनीक को नहीं चुनते बल्कि तकनीक आपको चुनती है. कल्पना कीजिये कि आप बैठे हुए खीर खा रहे हैं, और एक बिल्ली बैठी लगातार आपको घूर रही है. आप जानते हैं, और सब जानते हैं कि क्यों ? आजकल ब्रांडेड तकनीक  इसी बिल्ली की तरह व्यवहार कर रही है.आप कोई ज़रा सी भी गलती करें- कुछ गिरा दें , कहीं उठ कर चले जाएँ ,बस बिल्ली अपना काम कर लेगी. शुक्र है,अभी "बिल्ली " इतनी विकसित नहीं है कि खीर आपके हाथ से छीन ले . ओह,अभी भविष्य बाकी  है .         

2 comments:

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...