Thursday, August 16, 2012

केवल हँसना पर्याप्त नहीं है

अक्सर यह कहा जाता है कि  सभी को दिन में दो-तीन बार खुल कर हँसना अवश्य चाहिए। हंसने से पेशियों का व्यायाम होता है। इसी कारण शहरों में तो इंस्टेंट लाभ के लिए ढेरों लाफ्टर-क्लब काम कर रहे हैं। टीवी पर कई चैनल ऐसे कार्यक्रम लगातार दे रहे हैं, जिनमें बेबात के हँसते लोग दिखाए जाते हैं। किसी-किसी कार्यक्रम में तो खिजाने की हद तक आप बड़े-बड़े फ़िल्मी सितारों को खिलखिलाते देख सकते हैं, बशर्ते आप देख पायें। हँसना अच्छी बात है। जिंदगी में हंसी के पल बने रहें, यह कौन नहीं चाहता?
   लेकिन इस हंसने-हंसाने का एक पहलू और है। हंसी आपके लिए व्यायाम तभी है जब यह आपको आनंदित करते हुए किसी कारण से हो। यदि हम बेमकसद-बेमतलब हँसते हैं तो यह नकली हंसी हमें कोई लाभ नहीं पहुंचाती। लेकिन इस मामले में हम लोग खुशनसीब हैं, कि  हमारे यहाँ बड़े-बड़े पदों पर "कार्टून-जेनिक" लोग स्थापित हैं और रोज़ के अखबार में हमें हंसने की पर्याप्त वज़ह मिल ही जाती है।
   हाँ,आज हंसी आसानी से नहीं आ पाएगी क्योंकि स्वतंत्रता दिवस की छुट्टी होने से अखबार आये नहीं हैं।
     

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...