Tuesday, January 31, 2012

ऑस्कर वाइल्ड के दैत्य यानी हम और बच्चों की अनदेखी से सूखता बाग़

ऑस्कर वाइल्ड के दैत्य ने अपने बगीचे में बच्चों को खेलने से मना किया तो बाग़ में सदा के लिए बर्फीला पतझड़ डेरा जमा कर बैठ गया. फिर वहां न पंछी आये, न धूप. न संगीत गूंजा और न बच्चों की किलकारियां. 
बेचारा दैत्य!
उसने तो केवल अपने बगीचे से बच्चों को निकाला, पर हमारा गुनाह तो उस से भी बड़ा है. हमारे बाग़ में बच्चे हैं, पर फिर भी हम उनकी अनदेखी करके अपने खेल खेलने में लगे हुए हैं. हमें पैसा कमाना है, नाम कमाना है और अपने आने वाले कल के लिए इस शर्त पर धन जोड़ कर रखना है की यदि बच्चे हमारी देखभाल ठीक से करें तो धन उन्हें मिले वरना नहीं.हम रोज़ सुबह बच्चे के बस्ते में अपना सपना रख कर उसे घर से निकाल देते हैं. साथ में ऐसा मंत्र पढ़ते हैं की यदि बच्चा हमारे सपने से इंच-भर भी इधर-उधर हिले तो लंच-बॉक्स में रखी रोटी उसके गले में अटक जाये.जब दैत्य के बाग़ में बहार नहीं लौटी तो हमारे बाग़ में क्यों लौटे? 
दैत्य को तो एक दिन ईश्वर ने अवतार लेकर सद्बुद्धि देदी, पर हमारा क्या हो? ईश्वर आये भी तो कौन सा? हमारे मंदिर-मेले [मन-मेले नहीं] में तेतीस करोड़ देवताओं की कतार है.    

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...