Wednesday, January 4, 2012

प्रवासी भारतीय केवल वह नहीं देखेंगे जो हम उन्हें दिखाएँ,उनकी नज़र अपने देश पर हरपल रहती है

आज शाम जयपुर विमानतल से शहर  आने वाली सड़क पर बेहद आकर्षक साज-सज्जा दिखाई दी. गाँधी सर्कल पर रौशनी गाँधी जयंती से भी ज्यादा नयनाभिराम थी. सड़क का रंग-रोगन व हरियाली भी.
जयपुर शहर में प्रवासी भारतीय सम्मलेन में भाग  लेने के लिए दुनिया भर से मेहमानों  का आना शुरू हो चुका है.
उधर कुछ प्रवक्ता और अख़बारों के नुमाइंदे ऐसे भी हैं जिन्हें सत्ताधारी दल 'विपक्ष'कहता है. उन्होंने मीडिया के माध्यम से लोगों को बताना शुरू कर दिया है कि प्रवासी भारतीयों से पहले किये गए वादे अभी तक पूरे नहीं किये गए हैं. कुछ व्यक्तिगत मामले भी सुर्ख़ियों में लाये गए हैं, जहाँ निवेश करने वाले प्रवासी भारतीयों को परेशानी का सामना करना पड़ा.
देखना यह है कि दोनों में से कौन सा पक्ष "परदेसियों से अँखियाँ मिलाने " में कामयाब रहता है. हर हाल में इतना तो तय है कि मेहमान लोग दो दिन की बरसात में भीगने वाले नहीं हैं. वे देश में सावन का पूरा सीजन देखेंगे. उन्हें सूखे पेड़ सब्ज़ पत्ते लुभाने वाले नहीं हैं.
देखें उन्हें क्या पसंद आता है? हरियाली या रास्ता.   

No comments:

Post a Comment

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...