Wednesday, August 24, 2011

क्या आप बता सकते हैं कि गलती किस की है?

एक तरफ एक स्वीमिंग पूल है,दूसरी ओर छोटा सा मैदान. मैदान में दस बच्चे खड़े हैं.स्वीमिंग पूल पर एक चौकीदार है.उसे सख्त हिदायत है कि वह केवल उन्ही बच्चों को पूल में नहाने दे,जो तैरना जानते हों.मैदान पर एक प्रशिक्षित युवक है,जिसे निर्देश है कि वह बच्चों को तैरना सिखाये.बच्चे अभी तैरना नहीं जानते.कुछ दूरी पर एक कक्ष में एक अधिकारी है,जिसे हर प्रकार से स्थिति पर नियंत्रण के लिए वहां तैनात किया गया है.
कुछ देर में ही अधिकारी के कक्ष में शिकायतों का सिलसिला शुरू होता है.कुछ बच्चे आकर कह रहे हैं कि चौकीदार उन्हें नहाने नहीं दे रहा.चौकीदार कई बार आकर कह चुका है कि बच्चे नहीं मान रहे,शैतानी करते हैं.युवक आकर कह रहा है कि चौकीदार अड़ियल है,उसे पता ही नहीं है कि स्वीमिंग-पूल किस काम आता है?बच्चों को यह भी बात  समझ में नहीं आ रही कि उन्हें तैरना क्यों नहीं सिखाया जा रहा?अधिकारी की विवशता यह है कि किसी के निर्देश बदले नहीं जा सकते,क्योंकि अंतिम निर्णय करने वाले मालिक उपस्थित नहीं हैं.
सब अपने-अपने कर्तव्य का पालन कर रहे हैं,फिर भी असंतोष है.क्या आप इस स्थिति में कोई ऐसा सुझाव दे सकते हैं कि असंतोष कम हो.

2 comments:

  1. गलती किस की है, यह तो तब पता लगेगा जब यह मालूम हो कि सरकार किसकी है। उदाहरण के लिये:

    सफल पिता: सरासर बच्चों की गलती है। अगर बच्चे इतना झूठ भी नहीं बोल सकते तो आगे जीयेंगे कैसे?

    भ्रष्ट लालफ़ीताशाही: चौकीदार, युवक व अधिकारी के ऊपर एक-एक सुपरवाइज़र भर्ती करके रख दो। हाँ, हर भर्ती पर लाख लूंगा।

    भ्रष्ट मंत्री: हम जांच आयोग बिठायेंगे। उसका अध्यक्ष अपने चचा को बनायेंगे।

    क्लीन प्रधान मंत्री: हम देखेंगे, हम देखेंगे, और आप देखते रह जायेंगे, वक्तव्य सुनेंगे पर हाथ न कुछ भी पायेंगे। हम देखेंगे!

    अघोषित भावी राष्ट्रपति: इत्ते से गाँव में इत्ते बच्चे? एमर्जेंसी लगाओ और सब बडों का ऑपरेशन कराओ

    रटंत परीक्षा पास प्रशासनिक अधिकारी: तैरना न जानने वाले बच्चों की सुरक्षा के लिये ताल को जलविहीन करने के आदेश दे दिये गये थे, फिर भी ताल में कूदने से बच्चों की मौत कैसे हुई, इसकी जाँच के आदेश दिये जायेंगे। रिपोर्ट आने तक पडोसी गाँव के माली को निलम्बित करता हूँ।

    कम्युनिस्ट चीन: कितने हार्ट ट्रांसप्लांट का ऑर्डर है? पाँच? तो आठ को अगले ऑर्डर तक ज़िन्दा रहने देना।


    ... विषय से भटक रहा हूँ शायद, क्या कहते हैं आप?

    ReplyDelete
  2. is baar dhanywad main khud apne ko de raha hoon, kya maine itna shandaar beej dala tha jo is par pratikriya ke roop me itna jandaar aalekh aapse mil gaya?maine to pool me kewal pani bhara tha, aapne is pani ki gahraai se moti nikaal diye.

    ReplyDelete

सेज गगन में चाँद की [24]

कुछ झिझकती सकुचाती धरा कोठरी में दबे पाँव घूम कर यहाँ-वहां रखे सामान को देखने लगी। उसकी नज़र सोते हुए नीलाम्बर पर ठहर नहीं पा रही थी। उसके ...

Lokpriy ...